बलिया के मालवीय विद्यानुरागी मुरली बाबू को अर्पित की श्रद्धांजलि


बलिया। जनपद के मालवीय मुरली बाबू की 126वीं जयंती वृहस्पतिवार को कोविड-19 के गाईडलाइन का पालन करते हुए परम्परागत ढंग से मनाई गई। इस अवसर पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
समारोह का आयोजन श्री मुरली मनोहर टाउन इण्टर कालेज के प्रांगण में स्थित उनकी समाधि स्थल पर किया गया था। श्रद्धासुमन अर्पित करने का क्रम ग्यारह बजे आरम्भ हुआ। सबसे पहले टाउन एजुकेशनल सोसायटी के पदाधिकारियों व सदस्यों ने माल्यार्पण कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सोसायटी के कार्यकारी सचिव राकेश कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि मुरली बाबू विद्यानुरागी थे। समाज सेवा के लिए उन्होंने शिक्षा प्रसार का सहारा लिया। उन्होंने इस कार्य के लिए टाउन स्कूल को माध्यम बनाया और उसका पूरा विकास किया। बालक और बालिका दोनों प्रकार के महाविद्यालयों की स्थापना, पालिटेक्निक का शुभारंभ, नए भवनों का निर्माण, भूमि की उपलब्धता, विभिन्न शिक्षा संकायों की स्थापना आदि अनेक कार्य उनके कार्यकाल में हुए। श्री कुमार ने कहा कि मुरली बाबू का सर्वोत्कृष्ट पक्ष उनका मानवीय पक्ष था, वे महामानव थे। 
टाउन एजूकेशनल सोसायटी के बाद मुरली बाबू द्वारा स्थापित पांच शिक्षण संस्थानों श्री मुरली मनोहर टाउन इण्टर कालेज, श्री मुरली मनोहर टाउन स्नातकोत्तर महाविद्यालय, टाउन पालिटेक्निक, गुलाब देवी महिला महाविद्यालय व गुलाब देवी इण्टर कालेज के प्रबंध समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों ने माल्यार्पण कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद सभी शिक्षण संस्थानों के शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों ने अपने-अपने प्रधानाचार्य व प्राचार्य के नेतृत्व में मुरली बाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। जयंती समारोह में टाउन एजूकेशनल सोसायटी के कार्यकारी अध्यक्ष बालकृष्ण अग्रवाल, सचिव रामरतन सिन्हा, कमलेश श्रीवास्तव, विनय रंजन गोविंद, कमलेश सिंह, सुधीर श्रीवास्तव, अमर कुमार, अमिताभ श्रीवास्तव, नलिनेश श्रीवास्तव और गणमान्य नागरिकों ने भाग लिया। संचालन अभिषेक पाठक ने किया।

Post a Comment

0 Comments