शिक्षक सस्पेंड, लेकिन क्लासरूम में शिक्षिका की हत्या ने छोड़े कई सवाल,


लखनऊ। क्लासरूम में शिक्षिका अराधना राय की हत्या ने कई अनसुलझे सवाल छोड़ गये है, जिसका जबाब हर कोई जानना चलता है। इस घटना ने हर किसी को झकझोर दिया है। सवाल यह नहीं कि एक शिक्षक ने गोली मारकर दूसरी शिक्षिका की हत्या कर दिया। सवाल तो यह है कि एक शिक्षक क्लास रूम में असलहा लेकर कैसे पहुंच गया ? इसका अहसास मात्र ही रूह को कंपा देने वाला है। 

सीतापुर जनपद के प्राथमिक स्कूल पकरिया पर अराधना राय की नियुक्ति 14 नवंबर 2015 को सहायक अध्यापक के पद पर हुई थी। हत्यारोपित शिक्षक अमित कुमार कौशल से सम्बंध भी अच्छे थे। दोनों साथ स्कूल आते थे। अराधना लखनऊ से सीतापुर पहुंचती थी तो अमित अपनी बाइक से उसे स्कूल लाता और वापस छोड़ता भी था। इधर, कुछ दिनों से दोनों में बातचीत कम हो रही थी, जिसका परिणाम हत्या के रूप में सामने आया। हत्यारोपित शिक्षक अमित कुमार कौशल को बीएसए अजीत कुमार ने सस्पेंड कर दिया है। लेकिन सवाल यह है कि जिस क्लासरूम में भविष्य संवरता है, उसमें इंतकाम की आग सुलग रही थी। स्कूल में सबकुछ ठीकठाक नहीं ही था। इसकी शिकायत भी प्रधानाचार्य किरन मौर्य ने उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर किया।बीएसए ने जांंच के निर्देश भी दिये, अब तक जांच अन्जाम तक नहीं पहुंच सकी थी। सच तो यह है कि शिक्षक-शिक्षिका की जिस 'टशन' को प्रधानाध्यापक ने समय रहते पहचान लिया, उसे खंड शिक्षा अधिकारी भाप तक नहीं सके। इसकी परिणिति सबके सामने है। शिक्षा के मंदिर में खौफनाक वारदात हुई। राहत तो इस बात की है कि बच्चे विद्यालय नहीं आ रहे। इसके बावजूद यह घटना हर किसी के लिए सबक है। 

Post a Comment

0 Comments