वाराणसी-बलिया रेल खण्ड दोहरीकरण परियोजना का DRM ने देखा सच, दिया यह निर्देश


वाराणसी। पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के वाराणसी-बलिया रेल खण्ड दोहरीकरण परियोजना के अंतर्गत सैदपुर भीतरी-सागरपाली-बलिया-रसड़ा-दुल्लहपुर रेल खण्ड पर चल रहे विभिन्न कार्यो की प्रगति  समेत संरक्षा मानदण्डो की समीक्षा हेतु मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार द्वारा निरीक्षण किया गया। इसके साथ ही सैदपुर भीतरी इलेक्ट्रिक लोको शेड एवं टावर वैगन  एवं सागरपाली, बलिया, रसड़ा स्टेशनों तथा दुल्लहपुर में निर्माणाधीन टावर वैगन शेड की प्रगति कार्यों का भी गहन निरीक्षण किया। इस अवसर पर उनके साथ वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक रोहित गुप्ता,वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक संजीव शर्मा, वरिष्ठ मंडल इंजीनियर द्वितीय मनोज कुमार सिंह, वरिष्ठ मंडल इंजीनियर तृतीय अतुल त्रिपाठी, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर (विद्युत कर्षण) पंकज केशरवानी, वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर त्रयम्बक तिवारी, वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी वीरेंद्र कुमार यादव  एवं रेल विकास निगम लिमिटेड एवं निर्माण संगठन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


निरीक्षण स्पेशल से मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार सबसे पहले सैदपुर भीतरी स्टेशन पहुंचे और स्टेशन पर यात्री सुविधाओं का संज्ञान लेने के उपरांत सैदपुर में निर्माणाधीन इलेक्ट्रिक लोको शेड पहुंचे और शेड के प्रगति कार्यों की समीक्षा की सम्बंधित अधिकारीयों को जरूरी दिशा निर्देश दिया। साथ ही इस शेड के निर्माण में तेजी लाने का निर्देश दिया। कहा वाराणसी मंडल पर विद्युतीकरण एवं दोहरीकरण के कारण विद्युत इंजनो की संख्या में उत्तरोत्तर वृद्धि हो रही है, ऐसे में शीघ्र ही इलेक्ट्रिक लोको शेड का कार्यशील होना बहुत आवश्यक हो गया है। इसके बाद वे सागरपाली पहुंचे और रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया यात्री सुख-सुविधाओं का संज्ञान लिया और स्टेशन पर चल रहे प्लेटफार्म उच्चीकरण एवं विस्तार कार्य समेत स्टेशन डेवलपमेंट के विभिन्न  कार्यों का अवलोकन किया एवं सम्बंधित को दिशानिर्देश दिए। तदुपरांत मंडल रेल प्रबंधक बलिया स्टेशन पहुंचे और बांसडीह साईड के क्रास ओवर पॉइंट जोन तक ट्रैक, गुड्ड्स लाइन एवं निर्माणाधीन वाशिंग पिट का निरिक्षण किया और सम्बंधित को कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया। उसके बाद वे रसड़ा स्टेशन पहुंचे और यात्री सुविधाओं का निरीक्षण किया। मंडल रेल प्रबंधक फेफना-रसड़ा-इन्दरा-मऊ होते हुए अंत में दुल्लहपुर स्टेशन पहुंचे, जहां स्टेशन का निरक्षण करने के बाद वे टावर वैगन शेड पहुँचे और शेड निर्माण के लंबित कार्यों को अतिशीघ्र पूरी गुणवत्ता के साथ समय सीमा के अंदर पूरा करने पर बल दिया।

Post a Comment

0 Comments