सपा की आपसी एकता पर बड़ा सवाल छोड़ गया बलिया का यह कार्यक्रम


बलिया। लोकनायक जेपी के गांव में आयोजित गोवर्धन पूजा में भले ही आंस्था का सैलाब उमड़ा था, लेकिन सभा के मंच पर टिकट के दावेदारों के बीच दांव-पेंच की झलक भी साफ तौर भी दिखी। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव को आमंत्रित किया गया था, लेकिन व्यस्तता की वजह से वे नहीं आ सकें। उन्होंने अपने प्रतिनिधि के रूप में पूर्व जिलाध्‍यक्ष संग्राम सिंह यादव को नामित कर भेजे थे। आयोजकों की ओर से विशिष्‍ट अतिथि के रूप में जिलाध्‍यक्ष राजमंगल, लोकसभा के पूर्व प्रत्‍याशी सनातन पांडेय, पूर्व विधायक जयप्रकाश अंचल, पूर्व विधायक सुभाष यादव आदि के नाम के पोस्‍टर भी लगाए गए थे। लेकिन कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथियों में से किसी के नहीं आने पर आयोजक सपा नेता सूर्यभान सिंह ने सभा मंच से ही कई सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि बड़ी श्रद्धा-भाव से यह आयोजन विगत छह वर्षों से होता आ रहा है, लेकिन पहली बार सपा के आंगन में कलह देखने को मिल रहा है। यह कोई राजनीतिक उत्सव नहीं, एक धार्मिक उत्सव था। सभी को आना चाहिए था, लेकिन सपा के ही कई नेताओं ने परोक्ष रूप से इस कार्यक्रम का रंग फीका करने का प्रयास किया। इस तरह के व्यवहार से सपा की आपसी एकता पर भी कई तरह के सवाल उठेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी तक यह संदेश जाएगा।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments