कफन में लिपटी बेटी को देख रो पड़ा बलिया का यह गांव


लक्ष्मणपुर, बलिया। कफन में लिपटी सोनम जैसे ही गांव पहुंची, कोहराम मच गया। बच्ची की मां इन्द्रावती देवी और पिता अवध बिहारी ही नहीं, परिवार के सभी लोगों को रोते-बिलखते देख, वहां मौजूद हर शख्स की आंखों में आंसुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। वहीं, सोनम के छोटे-बड़े भाई-बहनों का भी रो-रोकर बुरा हाल था। इस बीच, काफी ओझल मन से सोनम का अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान माहौल बहुत ही कारूणिक था। लोग माता-पिता को ढांढस बंधा रहे थे। 

गौरतलब हो कि नरही थाना क्षेत्र के कुल्हड़िया गांव में शनिवार को दीपावली की खुशियों के बीच लगी आग में अवध बिहारी राम की सात वर्षीय पुत्री सोनम जिन्दा जल गई थी। बेटी की मौत से मां इंद्रावती समेत परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। वह रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी। रात में ही पहुंची पुलिस ने सोनम के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। रविवार की देर शाम पोस्टमार्टम के बाद सोनम का शव गांव पहुंचते ही कोहराम मच गया। बेटी के प्रति मां का प्यार देख मौके पर जुटी भीड़ भी अपने आंसू नहीं रोक पा रही थी। सोनम की मौत से बस्ती में सन्नाटा सा छा गया था।

समाजसेवियों ने बढ़ाया मदद का हाथ 
अगलगी की घटना में मासूम बच्ची सोनम की मौत के साथ बेघर परिवारों की मदद में समाजसेवियों का हाथ बढ़ता दिखा।चितरंजन सिंह ने पीड़ितों परिवारों को जहां 20 टीनशेड उपलब्ध कराया, वहीं जिपंस वीरलाल ने कम्बल, तिरपाल व आटा दिया। इससे पहले लेखपाल सत्येन्द्र यादव ने भोजन का इंतजाम कराया। 


पवन कुमार यादव

Post a Comment

0 Comments