बहुत बड़ा है बलिया का यह मुद्दा, नेता जी जायेंगे कोर्ट


बैरिया, बलिया। जिलाधिकारी के आदेश के बावजूद जलजमाव से हुए किसानों के खरीफ फसल की नुकसान का मुआवजा नहीं मिल सका। सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त ने एक माह पूर्व जिलाधिकारी को पत्र लिखकर सदर तहसील के बसुधरपार, पिण्डारी, रहुआ, पुरास, मुड़ाडीह, बिगही, समरथपाह, सोनवानी, बेलहरी, कृपालपुर, दुधैला, भरखोखा, मझौवा, दीघार व बैरिया तहसील के रामपुर, छेड़ी, चौबेछपरा, बलिहार, केहरपुर, नवकागांव, इब्राहिमाबाद, कोड़रहा उपरवार, रामपुर कोड़रहा सहित पांच दर्जन गांवों के किसानों की खरीफ फसल जलभराव के कारण नष्ट हो गई थी। इन किसानों को नुकसान का जांच कराकर मुआवजा की पहल सांसद ने की थी। फिर जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी बैरिया व उपजिलाधिकारी सदर को निर्देशित किया था कि लेखपालों से जांच कराकर रिपोर्ट भेजे। लेकिन दोनों तहसीलों से जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं भेजी गई है। इस बाबत इंटक जिलाध्यक्ष विनोद सिंह ने बैरिया के नायब तहसीलदार से मिलकर कहा कि यदि एक पखवाड़े के भीतर किसानहित में कार्रवाई नहीं की जाती है तो मामले को उच्चन्यायालय में ले जाऊंगा।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments