'बलिया मांगें ददरी मेला' आंदोलन को मिली बड़ी जीत, मंत्री ने अफसरों को किया अलर्ट


बलिया। समर्थन ददरी मेला आन्दोलन में अनशन पर बैठे अनशनकारी विकास पाण्डेय लाला, सागर सिंह राहुल, रूपेश चौबे, अंकित सिंह, धनजी यादव व रवि सोनी को उत्तर प्रदेश सरकार के राज्य मंत्री आनन्द स्वरुप शुक्ल ने जूस पिलाकर अनशन समाप्त कराया। अनशनकारियों ने मंत्री के सम्मुख अपनी पांच सूत्रीय मांग रखी। अनशनकारियों की प्रमुख मांगों में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी मेला लगाया जाए। मेले को राजकीय दर्जा प्रदान किया जाए। मेले के लिये स्थायी भूमि आवंटित की जाए। पशु मेले के लिये भी स्थायी भूमि आवंटित की जाए तथा गंगा मार्ग को कूड़ा कचरा मुक्त किया जाए। अनशनकारियों की मांग पर मंत्री ने कहा कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी मेला लगाया जाएगा। शीघ्र ही स्थायी भूमि भी आवंटित कराने की कोशिश की जाएगी। राजकीय मेले के विषय पर मंत्री ने कहा कि इसके लिए मैं पहले से ही वार्ता कर रहा हूं। शीघ्र ही मेले को राजकीय दर्जा प्राप्त होगा। गंगा मार्ग के लिये मंत्री ने अनशनकारियों के साथ गंगा मार्ग का दौरा किया। नगर मजिस्ट्रेट, ईओ तथा सम्बन्धित अधिकारियों को शीघ्र गंगा मार्ग दुरुस्त करने का आदेश दिया। इस दौरान मंत्री ने ददरी मेले के लिये पांच सदस्यीय टीम का गठन किया, जिसमें विकास पाण्डेय लाला, सुमित मिश्रा गोलू, अमित दुबे, रूपेश चौबे तथा सागर सिंह राहुल का नाम सम्मिलित है। इस दौरान रणवीर सिंह सेंगर, रजनीश पाण्डेय, पूर्व जिला पंचायत सदस्य अरुण सिंह, चन्दन ओझा, जैनेन्द्र पाण्डेय, अरुण कुमार, सुमित मिश्रा गोलू, विवेक ओझा, अभिजीत पाण्डेय, अंजनी चौबे बागी, अतुल पाण्डेय, धनन्जय सिंह बिसेन, आदित्य सिंह, सौरभ पाठक, प्रशांत पाण्डेय रिंसु, सूरज तिवारी, निखिल पाण्डेय, प्रदीप भोला, आलोक भारती, अशोक गुप्ता, गोपाल जी, विवेक पाण्डेय आदि उपस्थित रहे। आभार अमित दुबे तथा संचालन अचिन्त्य त्रिपाठी ने किया।

Post a Comment

0 Comments