#कब आएगी... बलिया में सबसे ज्यादा ट्रेंड कर रहा यह सवाल


कोई कह रहा है शाम तक आएगी तो कोई कह रहा है कल तक आएगी। ऐसे में एक सवाल सभी की जुबान पर है कि कब आएगी? आप भी सोच रहे होंगे कि आखिरकार ये सवाल किसके लिए है ? और जबाब भी किसके लिए दिया जा रहा है ? जी हां, ये सवाल है बिजली के लिए। दरअसल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण का विरोध कर रहे कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है। ऐसे में विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था ठप हो गई है। जैसे-तैसे जिला प्रशासन बिजली उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहा है, जो आम जनता के लिए नाकाफी साबित हो रहा है।

जनता परेशान

कोरोना संक्रमण के बीच मनहूसियत भरे लाकडाउन को भी जनता बड़े धैर्य से सहन कर ली। बिजली संकट से जूझती जनता परेशान हो उठी है। दरअसल लाकडाउन के दौरान बिजली की उपलब्धता से आम आदमी की मुश्किलें काफी कम हो गई थी। पर इस बार बिजली संकट के दौरान भीषण गर्मी ने लोंगों का जीना मुश्किल कर दिया है। बिजली हड़ताल का सबसे बुरा असर बच्चों पर पड़ रहा है, जिन्हें ऑनलाइन क्लासेज़ के ज़रिए पढ़ाई करना है। ऐसी परिस्थितियां हमें दिखाती हैं कि हमारा पारिवारिक, सामाजिक, और व्यवसायिक जीवन बिजली पर ही पूरी तरह से निर्भर हो गया है। 

इन्वर्टर बचाने का शुरू हो गया है कॉम्पटीशन

#कब आएगी के सवालों और जबाबों के बीच आम आदमी इन्वर्टर की बिजली बचाने में लगा है। ऐसी विकट परिस्थिति में लोग एक दूसरे से ये पूछने में ज़रा भी नहीं हिचक रहे कि आपका इन्वर्टर चार्ज है। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह दूसरे के घर पंखे की हवा खाना नहीं, बल्कि मोबाइल चार्ज करना है। ऐसे में देखा जाय कि पिछले दो दिनों से बलिया का नागरिक सबसे ज्यादा कौन सा सवाल पूछ रहा है तो जबाब सिर्फ एक ही होगा कि #कब आएगी।


मनोज चतुर्वेदी
वरिष्ठ पत्रकार, बलिया

Post a Comment

0 Comments