बलिया : यूपी में बढ़ते अपराध पर सपा का मौन व्रत, निशाने पर सरकार


बलिया। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर शुक्रवार को जिला मुख्यालय स्थित चौक पर गांधी प्रतिमा के सामने सपा पदाधिकारी और कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष राजमंगल यादव के नेतृत्व में मौन व्रत रखा। 
सत्य और अहिंसा के पुजारी बापू की जयंती पर समाजवादी पार्टी ने इस मौन धरना के माध्यम से योगी सरकार को झूठ का पुलिंदा और अपराधियों का संरक्षक बताया। नेताओ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बहन बेटियों की आबरू रोज तार-तार की जा रही है। सरकार ऐसे अपराधियों को संरक्षण दे रही है। हाथरस की घटना से प्रदेश जल ही रहा था, तब तक बलरामपुर, आजमगढ़ व भदोही में भी हैवानियत की हदें पार हो गई। इन घटनाओं से अब बिल्कुल स्पष्ट हो रहा है कि श्री योगी जी शासन चलाने में शत प्रतिशत असफल है।
जिला प्रवक्ता सुशील पाण्डेय 'कान्हजी' ने कहा कि भाजपा सरकार की नीतियों के प्रति जनता में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। किसानों से खेत मालिक की जगह छीनकर खेत मजदूर बनाने की साजिश हो रही है। सरकार किसानों को धान, गेहूं की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं दिलाना चाहती है। खुले बाजार के नाम पर बड़े व्यापारियों को औने-पौने दाम पर फसल खरीदने की छूट दी जा रही है। मंडी व्यवस्था समाप्त की जा रही है।  लाॅकडाउन में श्रमिकों की नौकरियां छूटी हैं। प्रदेश में पूंजीनिवेश न होने और उद्योग न लगने से रोजगार का संकट है। उसमें भी बलिया जैसे पिछड़े जनपद की स्थिति और सोचनीय है।इसके बावजूद भाजपा सरकार 100 की जगह अब 300 कर्मचारियों वाली फैक्ट्रियों में मालिक की जब मर्जी हो छंटनी करने का प्राविधान ले आई है। युवाओं द्वारा अपनी मांगें रखने पर उनपर लाठियां चल रही है। भाजपा सरकार सिर्फ दमन और शोषण के रास्ते पर चलती है। हाथरस जनपद में एक युवती के साथ दरिंदगी हुई जिसके उपरांत युवती की जीवन लीला समाप्त हो गई। अपराध का साक्ष्य समाप्त करने एवं अपराधियों को बचाने के लिए मृत युवती के शरीर को आतंकवादियों की तरह आनन फानन में आधी रात को पेट्रोल लगाकर अंतिम संस्कार कर दिया गया, जो इस सरकार के कृत्यों को दर्शाने के लिए काफी है। आज गांधी जयंती का यह सत्याग्रह सरकार को कुम्भकर्णी नीद से जगाने में सहायक होगा। साथ ही जनता में भी यह संदेश देगा कि वर्तमान सरकार जनहित के मुद्दों से विमुख हो गई है। 

ये रहे मौजूद
सनातन पाण्डेय, नारद राय, संग्राम सिंह यादव, सुभाष यादव, संजय उपाध्याय, लक्षमण गुप्ता, डा. विश्राम सिंह यादव, यशपाल सिंह, मृत्युंजय तिवारी बब्बलू, शशिकांत चतुर्वेदी, जमाल आलम, बंशीधर यादव, राजन कनौजिया, चंद्रशेखर उपाध्याय, संतोष भाई, जय प्रकाश मुन्ना, पुनिता सिंह सोनी, अजय यादव, रविन्द्र नाथ यादव, विवेक तिवारी बागी, विश्राम यादव, प्रभुनाथ यादव, मृत्युंजय राय, आशुतोष ओझा, सुभाष यादव, रामेश्वर पासवान, आदर्श मिश्र झब्बू, मन्नन दुबे, इरफान अहमद, अरुण यादव, दीवान सिंह, महावीर चौधरी, धनञ्जय सिंह विशेन, श्रीमती मनोरमा सिंह, अरविन्द तिवारी, परवेज़ रौसन, प्रभुनाथ पहलवान, शामू ठाकुर, रामभरोसे यादव, नमो नारायण सिंह, शोयबुल इस्लाम, पल्लू जायसवाल, मिंटू खा, जनार्दन समदर्शी,असनारायन पासवान,अतुल पाण्डेय, विक्की सिंह, कृपा शंकर यादव, बीर लाल यादव, कृष्णा प्रधान, जय प्रकाश यादव, वीरेंद्र पासवान, विश्वनाथ यादव, गणेश यादव, इम्तियाज अहमद, अफजल अहमद, देवेंद्र यादव, जुबेर सोनू, अंकित सिंह, मंटू दुबे, पिंटू पासवान, मंटू साहनी, रविन्द्र निगम, रामनाथ पटेल, अमित राय, मनोज गुप्ता, भीम सिंह, सन्त मनी आदि रहे।

Post a Comment

0 Comments