अंजुमन तरक़्क़ी-ए-उर्दू : बलिया की नवनिर्वाचित टीम ने ली शपथ, बांटी गई जिम्मेदारियां

बलिया। अंजुमन तरक़्क़ी ए उर्दू के नव निर्वाचित पदाधिकारियों व कार्यकारणी के सदस्यों को डॉ हैदर अली खान ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इससे पहले सेक्रेटरी डॉ. अब्दुल अव्वल ने सभी पदाधिकारियों व सदस्यों का परिचय कराया। प्रो. जावेद अख्तर ने आय व व्यय का ब्यौरा पेश किया। अंजुमन के क़वायद व ज़वाबित (बाइलॉज) निर्माण हेतु एक सुब-कमेटी बनाई गई, जिसमें नुरूलहुदा लारी, डॉ अब्दुल अव्वल, रणजीत सिंह एडवोकेट, डॉ राजेश पांडेय व डॉ मज़हर आज़मी को शामिल किया गया।

उर्दू से संबंधित तंज़ीम उर्दू टीचर्स  एशोसिएशन हेतु डॉ अब्दुल अव्वल, हाजी अब्दुलकुर्बान व अब्दुल मोमिन को उर्दू मुतरज्जिम एसोसिएशन हेतु मु. आरिफ व असग़र अली, अजय को पुनर्गठन की ज़िम्मेदारी दी गयी। 9 नवम्बर को विश्व उर्दू दिवस मनाने की ज़िम्मेदारी नुरूलहुदा, डॉ अब्दुल अव्व्ल, डॉ मज़हर आज़मी, जावेद अख्तर, फतेहचन्द गुप्त बेचैन, कामरेड तेज़नरायन और डॉ राजेश पांडेय की सब कमेटी को दी गयी। जिन संस्थाओं में पहले उर्दू पढ़ाई जाती थी, अब बन्द है उनकी निशानदेही व उर्दू पढ़ाने के प्रयास करने हेतु एक सब कमेटी भी बनाई गई। इसमें सदर, सेक्रेट्री के अतिरिक्त रणजीत सिंह एडवोकेट, डॉ राजेश पांडेय, कामरेड तेज़नरायन, ज़ुबैर अमीन व जावेद अख्तर को शामिल किया गया। अंजुमन का कैम्प कार्यालय सेक्रेट्री डॉ अब्दुल अव्वल के आवास पर बनाने का निर्णय लिया गया। उर्दू ना जानने वाले सदस्यों को डॉ हैदर अली खान ने उर्दू हिंदी शिक्षक पुस्तक भेंट की। आभार व्यक्त करते हुए नुरूलहुदा लारी ने जल्द ही बच्चों के लिए फ्री उर्दू कोचिंग की व्यवस्था करने का एलान किया। संचालन डॉ अब्दुल अव्वल ने किया।

Post a Comment

0 Comments