राधा कॄष्ण एकेडमी के MD आदित्य मिश्र बोले- जीवन में बहुत खास होता हैं शिक्षक का किरदार

आदित्य मिश्र मैनेजिंग डायरेक्टर

भारतीय संस्कृति का एक पवित्र हिस्सा गुरु-शिष्य परंपरा है। यह सत्य है कि माता-पिता का स्थान कोई नहीं ले सकता। इसीलिए कहा भी जाता है कि जीवन के प्रथम गुरु माता-पिता ही होते हैं। लेकिन जीवन में शिक्षक का किरदार बहुत ही खास होता है। देश के प्रथम उपराष्ट्रपति व दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक शिक्षक ही थे, जिनके जन्मदिन 5 सितम्बर को भारत शिक्षक दिवस के रूप में मनाता है।

राधा कृष्ण एकेडमी के शिक्षक

शिक्षक दिवस का मौका हम सबके लिए खास होता है। 5 सितंबर का दिन एक ऐसा दिन होता है, जब हम अपने गुरुओं (शिक्षकों) द्वारा किए गए मार्गदर्शन और ज्ञान के बदले हम उन्हें श्रद्धा से याद करते हैं। इस मौके पर लोग अपने शिक्षकों को सम्मान करते है। यह सब अपने गुरु के प्रति आदर-सम्मान दर्शाना होता है। आज जबकि सोशल मीडिया का जमाना है तो कोरोना काल में शिष्यों ने अपने-अपने प्रिय शिक्षकों की यादगार तस्वीर के साथ अपने भावुक क्षणों को साझा कर अपना सम्मान प्रकट किया। गुरु (शिक्षक) के प्रति हम सभी आज जो भी करते है, वह अपने शिक्षकों के प्रयासों और नेक मार्गदर्शन के कारण ही हैं। भारतीय जीवन-दर्शन में गुरु (शिक्षक) को ईश्वर से भी बढ़कर बताया गया है। शिक्षक ही वह व्यक्ति होता है, जो हमें शिक्षा से पारंगत कर समाज में हमारा उच्च मूल्य स्थापित करता है।


आदित्य मिश्र
मैनेजिंग डायरेक्टर
राधा कृष्ण एकेडमी
संवरूबांध (अखार), बलिया


Post a Comment

0 Comments