भैंस के गर्भ में ही मर गई थी पड़िया... तीन घंटे तक चला आपरेशन


मऊ। मुहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र के सौसरवां गांव में पशु चिकित्सकों ने गर्भ में मृत पड़िया को आपरेशन से बाहर निकाल लिया, जिससे भैंस की जान बच गई। पशु चिकित्साधिकारी Dr. अमित कुमार सिंह के नेतृत्व में ऑपरेशन कर भैंस का जान बचाने वाली चिकित्सकीय टीम की खूब सराहना हो रही है। 


सौसरवा गांव निवासी रंजीत विश्वकर्मा की भैंस कई दिनों से बीमार थी, जिसका इलाज अपने स्तर से करवाया जा रहा था। लेकिन दो दिनों से भैंस ने खाना पानी बन्द कर दिया तो उसे लेकर पशुपालक राजकीय पशु चिकित्सा केन्द्र मोहम्दाबाद पहुंचा। चिकित्सीय जांच में पाया गया कि भैंस के गर्भ में ही बच्चा मर गया है। यही नहीं, बच्चेदानी का घुमाव 360^ हो गया था। चिकित्साधिकारी Dr. अमित कुमार सिंह के नेतृत्व में भैंस का ऑपरेशन करने का निर्णय लिया गया। इसके लिए शल्य चिकित्सा टीम का गठन किया गया, जिसमें मुख्य रूप से पशु चिकित्साधिकारी Dr राम श्याम सिंह, Dr बैजनाथ प्रजापति की सराहनीय भूमिका रही। इस शल्य चिकित्सा को देखने के काफी संख्या में ग्रामीण जुटे हुए थे। करीब 3 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद गर्भ से बच्चे को बाहर निकाल कर भैंस की जान बचाई गई। इस सफल ऑपरेशन पर पशुपालक रंजीत विश्वकर्मा व महेंद्र सिंह के नेतृत्व में ग्रामीणों ने चिकित्सकों को सम्मानित करते हुए धन्यबाद ज्ञापित किया।

Post a Comment

0 Comments