गंगा पार नौरंगा में लगी बलिया डीएम की चौपाल, खुले कई राज


बलिया। डीएम श्रीहरि प्रताप शाही ने बुधवार को गंगा उस पार के गांव नौरंगा में चौपाल लगाई। पूरे गांव में भ्रमण कर आवास व शौचालय योजना के तहत बने आवास व शौचालय का स्थलीय सत्यापन किया। राशन, पेंशन जैसी योजनाओं के लाभार्थियों से सीधे बातचीत कर या ग्रामीणों से पूछकर आश्वस्त हुए कि पात्र को ही लाभ मिला है या नहीं। सरकार की विभिन्न लाभकारी योजनाओं के बारे में भी जानकारी दी गई।

गांव में पहुंचते ही जिलाधिकारी ने फेकू बाबा स्थान पर दर्शन किया। फिर वहां लोगों के बीच बैठकर गांव में हुए विकास कार्यों का सत्यापन करना शुरू किया। कार्डधारकों का नाम बोलना शुरू किया तो कुछ नाम पर लोगों ने आपत्ति किया कि जिनके पास वाहन आदि हैं उनका भी अंत्योदय सूची में नाम है। जिलाधिकारी ने डीएसओ को इसकी जांच कर रिपोर्ट देने को कहा। 

आवास योजना के लाभार्थी भगवान प्रसाद के आवास को देखा कि पूरा हो गया है या नहीं। प्लास्टर व दरवाजा का काम बाकी था, जिसे करा लेने को कहा। उनका शौचालय देखा और उसका हमेशा उपयोग करने को प्रेरित किया। खंड विकास अधिकारी को निर्देश दिया कि पूरा धन भेज देने के बाद भी इस तरह अगर कोई आवास अधूरा है तो उसे पूरा कराएं। गांव में एकाध जगह लगे वाटर फिल्टर भी शोपीस बने हुए हैं। जिलाधिकारी ने उसे भी देखा और जल निगम से जरूरी पूछताछ करने की बात कही। गांव में सौर ऊर्जा के माध्यम से लाइट और पंखे की व्यवस्था को भी जिलाधिकारी ने देखा।

कुपोषण के प्रति किया जागरूक

चौपाल में जिलाधिकारी ने लोगों से कहा कि कुपोषण के प्रति भी जागरूक होने की आवश्यकता है। 30 सितंबर तक चलने वाले पोषण माह की गतिविधियों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि जो पोषाहार मिल रहा है बच्चों को जरूर खिलाएं। अपने बच्चों के पोषण पर विशेष ध्यान दें, ताकि वे कुपोषण का शिकार होने से बच सकें। 

सावधानी बरतें, कोरोना से बचें

गांव में स्थलीय सत्यापन करने पहुंचे डीएम श्री शाही ने ग्रामीणों से अपील किया कि कोरोना महामारी से सावधान रहें। मास्क या गमछा से नाक व मुंह को अच्छी तरह ढककर रखें। सावधानी बरतें ताकि हम सब यह कह सकें कि पूरे देश में जो बीमारी फैली, उसको नौरंगा में नहीं आने दिया।

पंचायत भवन तक जाने वाली सड़क बनवाएं

पंचायत भवन को जाने वाली सड़क बनवाने में रुचि नहीं लेने पर सचिव व प्रधान से कारण पूछा। सचिव को फटकार भी लगाई। कहा, शीघ्र ही किसी फंड से इसे बनवाने की प्रक्रिया शुरू करें। बेहतरीन पंचायत भवन बनाने का क्या फायदा, जब वहां जाने वाली सड़क ही खराब है। डीएसओ केजी पांडेय, एडीओ योगेश चौबे, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ अशोक कुमार, एनडीआरएफ के अनिल शर्मा समेत ग्रामीण मौजूद थे।


हरेराम यादव

Post a Comment

0 Comments