बलिया : विकास कार्यक्रमों, निर्माण कार्यों व कोविड-19 की समीक्षा कर मंडलायुक्त ने दिया यह निर्देश


बलिया। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पंत ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में मुख्यमंत्री जी के विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों एवं कोविड-19 की समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि जो निर्माण कार्य पूरे हो गए है उनका तत्काल लोकार्पण तथा जो कार्य शुरू होना है उसका शिलान्यास कराया जाए। यह भी ध्यान रहे कि निर्माण में गतिशीलता के गुणवत्ता बनी रहे। 50 करोड़ से उपर की हर परियोजना के लिए नोडल अधिकारी तैनात किया जाए और उनकी सूची भी उपलब्ध कराने को कहा।
मण्डलायुक्त श्री पंत ने कहा, मुख्यमंत्री जी स्पष्ट निर्देश ​हैं कि काश्तकार के मृत्यु के बाद निर्धारित समयसीमा में वरासत की कार्यवाही कर ली जाए। सभी एसडीएम अपने कानूनगो व लेखपाल के माध्यम से यह सुनिश्चित कराएं। जिला जेल में जलजमाव की समस्या के निवारण के लिए विशेष पहल करने को कहा। उन्होंने निर्देश दिया कि गंगा नदी पर बनी नई पुल के एप्रोच मार्ग के निर्माण की प्रगति की जानकारी ली। घाघरा नदी पर खरीद—दरौली पुल के निर्माण व पहुंच मार्ग एवं सुरक्षात्मक कार्य के अपडेट के बारे में पूछा। बताया गया कि एक ही गाटा संख्या में कई किसान है, जिनसे जमीन की खरीद की कार्यवाही की जा रही है। ​​कमिश्नर ने जल्द ही इस कार्यवाही को पूरी कर लेने के निर्देश दिए। चांदपुर के सामने बन रही पुल के निर्माण व एप्रोच मार्ग के लिए जमीन लिए जाने वाली कार्यवाही की भी समीक्षा की। बताया गया कि नदियों मे पानी के कम होते ही कार्य तेजी से कराया जाएगा। मण्डलायुक्त ने यह भी निर्देश दिया कि 50 करोड़ से उपर की परियोजनाओं की साप्ताहिक समीक्षा की जाए। निर्माणाधीन परियोजना राजकीय पालिटेक्निक बैरिया व हुसेनाबाद, सीएचसी सोनबरसा, आश्रम पद्धति विद्यालय हुसेनाबाद, कांशीराम आवास योजना, पंचायतीराज प्रशिक्षण संस्थान, बैरिया में विभिन्न मार्गों के चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण की भी समीक्षा की। घर—घर नल योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी व ग्रामीण, मनरेगा, किसानों का गन्ना का भुगतान, उर्वरक की उपलब्धता आदि के बारे में पूछताछ की।

आरटीपीसीआर व एल-2 अस्पताल के बारे में ली जानकारी

कोविड-19 की समीक्षा के दौरान आरटीपीसीआर लैब की स्थापना के बावत जानकारी ली। उन्होंने एल-2 फैसिलिटी अस्पताल की सुविधाओं से जुड़ी पूछताछ की। बताया गया कि वहां कुल 55 बेड, चार वेटिलेटर, दो जंबो सिलेण्डर, हर बेड पर आक्सीजन जैसी सुविधाएं है। मण्डलायुक्त ने कहा कि कोविड-19 पर रोकथाम से जुड़ी कार्यवाही की समीक्षा हमेशा होती रहे। निगरानी समितियों को हमेशा सक्रिय बनाएं रखें। मृत्यु दर रोकने के उपाय, इवरमेक्टिन दवा के बारे में ज्यादा से ज्यादा प्रचार, सक्रिय रोग निरोध अभियान, संदिग्ध मरीजों को चिन्हित करने के सम्बन्ध में भी जरूरी दिशा-निर्देश दिए। बैठक में जिलाधिकारी एसपी शाही, सीडीओ विपिन कुमार जैन, सीएमओ डॉ जितेंद्र पाल समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments