बलिया : थानेदार के खिलाफ छात्रों का अनशन, दिया अल्टीमेटम


बैरिया, बलिया। शहीद स्मारक बैरिया पर सोमवार को बैरिया थाना प्रभारी निरीक्षक के स्थानांतरण समेत सात सूत्रीय मांगों को लेकर छात्र नेताओं ने क्रमिक अनशन शुरू किया। अनशनकारियों का आरोप था कि शहीद स्मारक के बगल में क्रमिक अनशन पर बैठने के लिए लगाए गए शामियाना को हम लोगों के पहुंचने से पहले ही पुलिस ने उखड़वा कर फेंकवा दिया। छात्र पुलिस पर हिटलर शाही का आरोप लगा रहे थे।
क्रमिक अनशन पर बैठे अनशनकारियों से पुलिस विभाग के उप निरीक्षकों ने मौके पर पहुंचकर बिना परमिशन के अनशन पर बैठने से मना करते हुए वापस लौट जाने का अनुरोध के साथ दबाव भी बनाया। लेकिन अनशनकारी टस से मस नहीं हुए। वह अपनी जिद पर अड़े रहे। उनका कहना था कि वैसे भी आप लोग हम लोगों का सुन कहां रहे हैं। छात्रों का उत्पीड़न कर ही रहे हैं। आप जो चाहे वह करें। हम लोकतांत्रिक तरीके से अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। हमारी मांगे पूरी हो जाए, हम यहां से चले जाएंगे। अनशन स्थल पर पहुंचे उपजिलाधिकारी बैरिया सुरेश कुमार पाल व क्षेत्राधिकारी चंद्रकेश सिंह ने अनशनकारियों से बात की। उनकी बातें सुनने के बाद उपजिलाधिकारी ने कहा कि मेरे स्तर से आपकी मांगों को लेकर जो भी कार्यवाही हो सकती है, वह जांच कर मैं कर दूंगा। लेकिन अनशनकारी एसएचओ के स्थानांतरण की मांग पर अड़े रहे। क्रमिक अनशन 10 बजे से 3 बजे तक चला। छात्र नेताओं ने चेतावनी दी कि 2 दिन क्रमिक अनशन के बाद अगर हमारी मांगे पूरी नहीं होती तो हम लोग तीसरे दिन से आमरण अनशन शुरू कर देंगे। इस मौके पर रवि मौर्या, मुकेश यादव, लाल बहादुर शास्त्री, अमित कुमार शर्मा, अमित यादव, राजकुमार यादव, राजीव यादव, कृष्णा साह, प्रदीप गुप्ता आदि काफी संख्या में छात्रनेता रहे। अनशन स्थल पर एसएचओ संजय त्रिपाठी, उप निरीक्षकों के अलावा काफी संख्या में पुलिस के जवान मौजूद रहे।

बगैर अनुमति अनशन गैरकानूनी : क्षेत्राधिकारी

क्षेत्राधिकारी चंद्रकेश सिंह ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते क्रमिक अनशन या किसी तरह के धरना प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। अनशन पर बैठना गैरकानूनी है। इन लोगों पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments