बलिया : उर्दू प्रेमियों की बैठक में लिया गया यह निर्णय


बलिया। उर्दू प्रेमियों की बैठक डॉ. हैदर अली खान के आवास पर कोविड 19 प्रोटोकॉल के तहत हुई, जिसमें शहर के उर्दू प्रेमी सम्मलित हुए। बैठक में उप्र सरकार से उर्दू शिक्षक व उर्दू ट्रांसलेटर के रिक्त पदों को भरने के लिए मेमोरेंडम प्रेषित करने, अंजुमन तरक़्क़ीए उर्दू को प्रभावशाली बनाने हेतु पदाधिकारियों का चुनाव लोकतांत्रिक तरीके से कराने व विश्व उर्दू दिवस (9 नवंबर) को शान व शौकत के साथ मनाने का निर्णय लिया गया। 
बैठक में सहमति बनी कि आगामी 4 अक्टूबर को शमा पब्लिक स्कूल गड़वार रोड़ पर हंगामी बैठक में अंजुमन तरक़्क़ीए उर्दू के पदाधिकारियों का चनाव होगा। बैठक ऑर्गनाइज़ करने की ज़िम्मेदारी डॉ. अब्दुल अव्व्ल व जावेद अख्तर को संयुक्त रूप से दी गयी। डॉ हैदर अली खान ने उर्दू के साथ सरकारों के सौतेला सलूक पर दुःख का इज़हार किया। उर्दू को हिंदुस्तानी ज़ुबान बताते हुए रोज़ी रोटी से जोड़ने की मांग की।नुरूलहुदा लारी ने उर्दू तंजीमों को मजबूत करने पर बल दिया। डॉ अब्दुल अव्वल ने इस भ्रम को दूर करने पर ज़ोर दिया कि उर्दू मुसलमानों की भाषा है। उन्होंने हिन्दू भाइयों से हिंदी के साथ ही उर्दू पढ़ने की अपील की।,
जावेद अख्तर ने उर्दू अखबार व रसाएल को घर घर पहुंचाने पर ज़ोर दिया। संचालन डॉ अब्दुल अव्वल व सदारत हाजी अब्दुलकुर्बान ने किया। बैठक में तेज़नरायन कामरेड, नुरूलहुदा लारी, जावेद अख्तर, अली अवसत, इसरार अहमद खान, डॉ राजेश पांडेय, अब्दुल मोमिन, अब्दुल आखिर आदि ने अपने विचार रखे।

Post a Comment

0 Comments