बलिया : मां-बाप का इकलौता बेटा था राजू


दुबहड़, बलिया। दुबहड़ थाना अंतर्गत अड़रा घोड़हरा गांव में सर्पदंश पीड़ित युवक को काफी प्रयास के बाद भी बचाया नहीं जा सका। चारों तरफ से थक हार कर शुक्रवार की शाम युवक के शव को केले के पौधे के मृतशैया पर गंगा नदी में प्रवाहित कर दिया गया। युवक अपने मां बाप का इकलौता पुत्र था। युवक की मौत से गांव में शोक की लहर है।
राजू कुमार प्रजापति (18) पुत्र सीताराम प्रजापति गुरुवार की सुबह अपने दरवाजे के जमीन पर रखे हुए करकट पर पैर रखकर गेंदा के फूल को सीधा कर रहा था। तभी करकट के नीचे छिपा सांप युवक के पैर में डंस लिया। कुछ देर बाद युवक बेहोश होने लगा। परिजन उसे इलाज के लिए अमृत पाली स्थित एक स्कूल पर ले गये, जहां उसे दवा आदि पिलाने के बाद छोड़ दिया गया। पुनः परिजन युवक को लेकर तिखमपुर स्थित एक निजी अस्पताल पहुंचे, लेकिन युवक को होश नहीं आया। पुनः परिजन उसे लेकर बांसडीह रोड स्थित अमवा के सती माई, रसड़ा स्थित अमवा सती माई, मऊ स्थित फातिमा हॉस्पिटल एवं बांसडीह, सिताबदियर जयप्रकाश  नगर, बिहार स्थित प्रताप सागर में अनेकों तंत्र मंत्र एवं झाड़-फूंक करने वाले ओझाओं के पास ले गए। लेकिन कोई भी युवक को ठीक नहीं कर सका। परिजन यह समझ गए कि अब किसी प्रकार से युवक की जान नहीं बचाई जा सकती है तो वे दहाड़े मारकर करुण क्रंदन एवं चीख-पुकार करने लगे। महिलाओं की चीख पुकार सुनकर उपस्थित लोगों का कलेजा मुंह को आ जा रहा था।


पिंकू सिंह

Post a Comment

0 Comments