बलिया : प्रभारी मंत्री के सामने ग्रामीणों ने खोली बाढ़ विभाग की पोल, फिर...


रामगढ़, बलिया। प्रभारी मंत्री अनिल राजभर के साथ पूरा प्रशासनिक अमला मंगलवार की सुबह गंगा नदी के हुकुमछपरा घाट पर पहुंचा। मंत्री ने बैराज खंड के अधिकारियों से कार्य की प्रगति के बारे में पूछताछ करते हुए 15 दिन के अंदर काम समाप्त करने का निर्देश दिया। कहा कि बाढ़रोधी कार्यों में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी व कर्मचारी बक्से नहीं जाएंगे। उन्होंने गंगापुर डगरा के समीप 1 माह से बंद पड़े कार्य का भी ग्रामीणों की मांग पर निरीक्षण किया। आश्वासन दिया कि मामले की पूरी जानकारी कर ठेकेदार के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।


निरीक्षण के दौरान जिले के प्रभारी मंत्री अनिल राजभर व राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने क्षेत्रीय विधायक की प्रशंसा की। कहा कि बैरिया विधायक मुख्यमंत्री से लड़कर अपने क्षेत्र में काम लाते हैं। ऐसे में अगर कोई विभाग का अधिकारी लापरवाही बरतेगा है तो उसके खिलाफ अवश्य कार्रवाई होगी। ग्रामीणों ने कहा कि अभी तो बाढ़ नहीं आई है, अन्यथा एनएच 31 खतरे में पड़ जाता। इस मामले को जिले के प्रभारी मंत्री ने गंभीरता से लिया। उन्होंने बाढ़ विभाग के एसडीओ कमलेश कुमार से पूछा कि ऐसे लापरवाह ठेकेदार के खिलाफ अब तक क्या कार्रवाई की गई, जिस पर वे निरुत्तर हो गए। इस पर क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि ऐसे लापरवाह ठेकेदारों के खिलाफ तत्काल लिखकर विभाग में कार्रवाई के लिए भेजे, उसकी एक कॉपी हमें भी प्राप्त करावे। इस मौके पर जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही, भाजपा जिलाध्यक्ष जय प्रकाश साहू, एएसपी संजय कुमार, एसडीएम बैरिया सुरेश कुमार पाल, भायुमो के जिला मंत्री आदित्य नारायण तिवारी, अश्वनी ओझा, पिछड़ा वर्ग के मंडल के अध्यक्ष रिंकू गुप्ता उर्फ भगवान जी, अवनींद्र कुमार ओझा व शिवानंद दुबे इत्यादि मौजूद रहे। 

ग्रामीणों की रही ये शिकायत

ग्रामीणों का कहना है कि हम लोगों ने बार-बार बाढ़ विभाग की कमियां अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को बताया। क्षेत्रीय विधायक के साथ ही गत दिनों दौरे पर आए राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला से भी शिकायत की गई। बावजूद ठेकेदार पर कार्रवाई नहीं हुई। आखिर क्यों ? क्या यह ठेकेदार प्रभावशाली है या विभाग मेहरबान है ? यह जब चाहे काम शुरु करा दे और जब चाहे बंद। 


सुरेश कुमार मिश्र

Post a Comment

0 Comments