बलिया : ग्राहक केन्द्र संचालक की हत्या कर बोरे में पैक कर फेंका शव, चार दिन से था लापता

दिलीप कुमार, फाइल फोटो

बैरिया, बलिया। कानपुर व गोरखपुर में अपहरण और हत्या की आग अभी बुझी भी नहीं, तब तक बलिया में एक ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक की अपहरण के बाद हत्या कर बदमाशों ने न सिर्फ पुलिसिंग की पोल खोल दी, बल्कि पुलिस को खुलेआम चुनौती दे डाली। हालांकि पुलिस ने दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। वही, आमजन की जुबां पर पुलिस की लापरवाह व्यवस्था को दोषी ठहराती बातें तैर रही है।

बता दें कि पूर्वांचल बैंक बैरिया के ग्राहक सेवा केंद्र संचालक दिलीप यादव का शव सोमवार की रात सोनबरसा-इब्राहिमाबाद मार्ग पर भागड़ नाला में बोरे में बंद मिला। वही दूसरे बोरे में उसका लैपटॉप, हेलमेट व कुछ अन्य सामान भी मिले हैं। बैरिया पुलिस रात में ही दिलीप के परिजनों को बुलाकर शव की शिनाख्त कराकर अंत्य परीक्षण के लिए बलिया भेज दिया। उधर, बैरिया पुलिस ने पूछताछ के लिए आधा दर्जन लोगों को हिरासत में ले लिया था। पुलिस द्वारा कड़ाई से पूछताछ करने पर दोनों युवकों ने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए हत्या में प्रयुक्त डंडा व दिलीप की बाइक बरामद कराई। 

इसी क्रम में बैरिया पुलिस को धतूरी टोला गांव के एक खेत में दिलीप यादव की बाइक भी मिल गई है। बाइक की डिक्की में रेनकोट, पर्स और उसमें रखा 4600 रुपया, एटीएम कार्ड और बैंक संबंधित कुछ कागजात भी मिले हैं। बरामद सामान और मिले शव के हुलिया तथा पहने गए वस्त्र के आधार पर दिलीप के पिता रामप्रवेश यादव और परिजनों ने दिलीप के रूप में ही पहचान कर ली है।

एसएचओ संजय कुमार त्रिपाठी ने बताया कि बैरिया में संचालित जन सेवा केंद्र पर संचालक दिलीप के साथ रेवती थाना क्षेत्र के गोपाल नगर निवासी जयप्रकाश यादव, बैरिया थाना क्षेत्र के मठ जोगिंदर गिरी निवासी प्रेम प्रकाश सिंह उसके दुकान पर शुक्रवार को 2:30 बजे के बाद से काफी देर तक साथ मे बैठे रहे। जन सेवा केंद्र बंद होने के उपरांत तीनो लोग वहां से 5:00 बजे के लगभग बैरिया स्थित दलित बस्ती में जयप्रकाश यादव के किराए के मकान में गये थे। मकान जनसेवा केंद्र से करीब 150 मीटर दूरी पर ही है। वहां पर तीनो लोग पकौड़ी और शराब पिए। इसी बीच बात बात में दिलीप और जयप्रकाश के बीच कहासुनी हो गई। 

दिलीप ने जयप्रकाश को गाली दिया और वहां से उठकर जाने लगा। तब तक जयप्रकाश  कमरे में रखा डंडा उठाकर पीछे से दिलीप के सिर पर वार कर दिया, जिससे दिलीप कमरे में ही गिर गया। इसके बाद जयप्रकाश और प्रेमप्रकाश को शक हो गया कि दिलीप मर गया तो कहीं हम लोग फंस न जाएं। प्रेम प्रकाश  दिलीप का पैर पकड़ा और जयप्रकाश ने धोखे से गला दबा दिया। जिससे दिलीप की मौत उक्त मकान में ही हो गयी। 

रात होने पर दोनों लोग दिलीप को बोरी में बंद कर, और दूसरे बोरी में दिलीप के लैपटॉप और हेलमेट को रखकर उसी की बाइक से लालगंज, भगवानपुर रास्ते होते हुए सोनबरसा चौराहा से सोनबरसा इब्राहिमाबाद मार्ग पर स्थित भागड नाला में फेंक कर बाइक को धतूरी टोला स्थित एक खेत में लावारिस हालत में छोड़कर भाग गए। 

घटना की सूचना पर क्षेत्राधिकारी अशोक सिंह व अपर जिलाधिकारी संजय कुमार यादव मौके पर पहुंचकर आवश्यक जानकारी ली। इंस्पेक्टर संजय त्रिपाठी ने बताया कि जयप्रकाश यादव व प्रेमप्रकाश सिंह को संबंधित धाराओं में न्यायालय चालान कर दिया गया।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments