बलिया में राघवेन्द्र प्रताप सिंह केस : प्रधान प्रतिनिधि समेत पांच पर हत्या का मुकदमा


रेवती, बलिया। रेवती पुलिस ने विशनपुरा मौजे में स्थित पुराने भट्ठे के गढ्ढे में मिले राघवेन्द्र प्रताप सिंह (20) के शव मामले में पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। शनिवार की सुबह मृतक के पिता उपेंद्र सिंह की तहरीर पर गायघाट के प्रधान प्रतिनिधि विजय प्रताप सिंह समेत पांच लोगों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 147, 302, 201 के तहत मुकदमा दर्ज कर पड़ताल शुरु कर दी। पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है।

बताया जा रहा है कि राघवेन्द्र प्रताप सिंह गुरुवार से गायब था। इसकी सूचना पर रेवती पुलिस गंभीर नहीं हुई और शुक्रवार की रात युवक का शव बरामद हुआ। शव रखकर चक्का जाम कर रहे लोगों का आरोप था कि यह घटना स्थानीय पुलिस की लापरवाही के कारण हुई हैं। अगर गुरुवार के दिन ही राघवेंद्र के गायब होने की घटना को पुलिस गंभीरता से ली होती तो आज यह घटना नहीं होती। तहरीर में घटना का कारण पुरानी रंजिश बताया गया हैं। आरोपियों में प्रधान प्रतिनिधि के अलावा उनके दो भतीजे व मुहल्ले के दो सगे भाई का नाम शामिल हैं। पुलिस तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।सीओ बैरिया ने बताया कि पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहीं हैं। इसके बाद आगे कार्यवाही बढ़ेगी।

बेवजह फंसाया जा रहा मुझे : प्रधान प्रतिनिधि

गायघाट के प्रधान प्रतिनिधि विजय प्रताप सिंह ने पुलिस से निष्पक्ष जांच की गुहार की हैं। उन्होंने कहा कि गांव की राजनीति की वजह से मुझे बेवजह फंसाया जा रहा हैं। हमें पुलिस और न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा हैं। जांच के बाद हकीकत स्पष्ट हो जाएगी।

...जब किसी ने बोला सांस चल रही है अभी

रेवती-सहतवार मुख्य मार्ग पर शव रखकर चक्का जाम किये ग्रामीणों के बीच किसी के मुंह से यह निकला कि राघवेन्द्र की सांस शायद चल रही है। फिर क्या था पुलिस सहित लोग आनन-फानन में राघवेन्द्र को लेकर सीएचसी पहुंचे, जहां फार्मासिस्ट डा.एसएन तिवारी ने उसे जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया। रोती बिलखती सीएचसी पहुंची महिलाओं सहित परिजनों के करूण क्रंदन से लोगों का कलेजा मुंह को आ रहा था। 


पुष्पेन्द्र तिवारी 'सिन्धु'

Post a Comment

0 Comments