Covid19 का कहर : बलिया में बदल गया महिला का शव, जांच का आदेश


बलिया। आजमगढ़ में उपचार के दौरान Covid19 से मृत नगरा थाना क्षेत्र की एक महिला का शव भी उसके परिजनों को नसीब नहीं हो सका। शव के लिए परिजन काफी देर तक भटकते है, लेकिन कोई जिम्मेदार कुछ स्पष्ट जबाब देने को तैयार नहीं था। थक हारकर परिजन यह कहते हुए वापस लौट गये कि पुतला-पुतली बनाकर श्राद्ध-कर्म कर लेंगे। इस मामले ने स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली की कलई खोलकर रख दी है। प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जीपी चौधरी ने बताया कि मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी । 

नगरा थाना क्षेत्र के सरया गुलाब राय निवासी श्री कृष्ण ने बताया कि उसकी पत्नी शुभावती (68) की तबीयत खराब थी। फिर उन्हें एक अगस्त को नगरा अस्पताल से जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिला अस्पताल में हालत गम्भीर होने पर आजमगढ़ रेफर कर दिया गया। वहां दो अगस्त की शाम शुभावती की मौत हो गई। लेकिन वहां शव देने से यह कहते हुए मना कर दिया कि शव बलिया से ही मिलेगा। एक और महिला का शव बलिया जाना है। दोनों शव एक ही साथ बलिया जायेगा।

महिला के परिजन शव के लिए जिला अस्पताल पहुंचे तो उनके पैरों तले जमीं खिसक गयी, क्योंकि आजमगढ़ से आया शव सुभावती का नहीं था। मृतका के पति ने बताया कि आजमगढ़ से दो शव एक ही एम्बुलेंस से बलिया के लिए चला। एक शव फेफना के पास उतार दिया गया। हमे जो शव दिया जा रहा था, वह किसी अन्य 40 साल की महिला का है। शव पर दूसरी महिला का नाम भी लिखा था। आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मदद करने की बजाय उनपर ही आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। 



Post a Comment

0 Comments