बलिया में 'लाल सोना' का काला धंधा, अफसर मौन


बैरिया, बलिया। अवैध कारोबारियों से ज्यादा परेशान अधिकारी-कर्मचारी है, क्योंकि अवैध कारोबार रुक जाने से चढ़ावा बंद हो जाता है। उस स्थिति में अधिकारियों की परेशानी बढ़ जाती है। यही वजह है कि अब कुछ अधिकारी ही अवैध कारोबार चालू कराने पर हैं।  



क्षेत्र के गंगा तट सतीघाट भूसौला शिवपुर घाट पर विगत दिनों उपजिलाधिकारी सुरेश कुमार पाल, क्षेत्राधिकारी इंद्रेश कुमार सिंह व खनन अधिकारी योगेन्द्र भदौरिया ने निरीक्षण किया था। अधिकारियों ने वहां करोड़ों रुपए का अवैध लाल बालू डंप पाया। बावजूद उस अवैध बालू को न तो सीज किया गया ना ही  नष्ट। जबकि, खनन अधिकारी ने लोगों को आश्वस्त किया था कि अगले दिन इसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। किंतु चार दिन बाद भी कोई कार्रवाई नही हो सकी। 

सूत्रों की मानें तो अंदरखाने से उस बालू को ना सिर्फ बेचा जा रहा है, बल्कि रोज नाव से बालू की खेप भी पहुंच रही है। बावजूद इसके प्रशासन खामोश है। ताज्जुब की बात यह है कि क्षेत्र के अन्य स्थानों पर लाल बालू का अवैध कारोबार बंद है। किंतु लालगंज क्षेत्र में यह कारोबार रफ्तार से चल रहा है। प्रश्न उठता है कि आखिर अधिकारी किसके दबाव में जांच के लिए आते हैं और किसके दबाव में कार्यवाही नहीं करते ? यह चर्चा का विषय बना हुआ है। चर्चाओं पर गौर करे तो लाल बालू के खेल में लालगंज पुलिस चौकी के साथ ही बैरिया थाने कुछ सिपाहियों की कृपा बालू माफियाओं पर है।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments