Book This Side For Ads....Purvanchal24

आम लोगों की जुबां पर आया सूर्यभान सिंह का नाम, जानें इनकी शख्सियत Ballia News

सूर्यभान सिंह

बैरिया, बलिया। मैं आपके बीच का आदमी हूं। यदि बैरिया विधान सभा की जनता ने मुझे मौका दिया तो मैं सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा व स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं को ही नहीं, पूरी व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन करूंगा। मैं ऐसा नहीं कर पाया तो विधान सभा से कोई भी किसी समय मेरा इस्तीफा मांग सकता है। विधान सभा में सभी वर्ग के लोगों का सामान्य रूप से ध्यान रखूंगा। किसी के साथ भेदभाव नहीं होगा। मैं बैरिया विधान सभा में सभी के सहयोग से एक ऐसे समाज की स्थापना करना चाहता हूं, जिसमें हर कोई निर्भय होकर जीवन व्यतीत करे।

यह वक्तव्य है द्वाबा (अब बैरिया) के सूरज सूर्यभान सिंह के। समाजसेवा व पारदर्शी व्यवस्था को संकल्पित सूर्यभान सिंह का गांव वहां है, जहां संपूर्ण क्रांति के प्रणेता लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने जन्म लेकर देश को नई दिशा दी। उस मिट्टी की उपज सूर्यभान सिंह न सिर्फ जुल्म और ज्यादती के खिलाफ आवाज उठाते है, बल्कि अपनी इच्छाशक्ति व सेवा भाव से हर दिल अजीज भी बन गये है। बदहाल NH-31 को (बेलहरी से मांझी तक) अपने निजी कोष से बनवाने के लिए शासन-प्रशासन से अनुमति मांगकर सरकार और सरकार की व्यवस्था को आइना दिखाने वाले सूर्यभान सिंह जरूरतमंदों के प्रति हमेशा संवेदनशील रहते है।जयप्रकाशनगर के भवन टोला में निवासी सूर्यभान सिंह गांव की सड़कों का मामला हो या कटान का, बिजली की समस्‍या हो या बाढ़ का, हर समस्‍या को शासन तक पहुंचाने का काम भी करते रहते है। 

रूबी सिंह, प्रधान


समाजसेवी सूर्यभान सिंह की पत्नी रूबी सिंह ग्राम पंचायत कोड़रहा नौबरार (जयप्रकाशनगर) की प्रधान है। आपको जानकर हैरत होगी कि 2015 में रूबी सिंह जब गांव की प्रधान बनी तो सूर्यभान सिंह ने सर्वजनिक मंच से जनता को यह अधिकार दिया कि जनता के बीच से किसी को भी यदि ऐसा लगे कि उनकी सेवा या गांव के विकास को गति देने में मै पीछे हूं तो वे कभी भी मुझसे इस्तीफा मांग सकते हैं। यह है सूर्यभान सिंह का व्यक्तित्व, जिसे न सिर्फ गांव, बल्कि द्वाबा की जनता का खूब प्यार मिल रहा है। सूर्यभान सिंह बैरिया विधान सभा का बेटा और भाई बनकर सेवा करने के लिए इच्छुक हो चुके है।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments