रेलवे का करिश्मा : समय से पहले पहुंच रही ट्रेनें, मालगाड़ियों की भी बढ़ी स्पीड


वाराणसी। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन अपनी कार्यप्रणाली में गुणात्मक सुधार लाने के लिए विभिन्न स्तरों पर समेकित प्रयास कर रहा है, जिसके अपेक्षित परिणाम प्राप्त हो रहे हैं। समय पालन रेल प्रणाली की उत्कृष्टता का एक प्रमुख पैमाना एवं यात्री संतुष्टि का महत्वूपर्ण कारक है। समय पालन के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करते हुए 12 जुलाई 2020 से पूर्वोत्तर रेलवे ने यात्री गाड़ियों के परिचालन में 100 प्रतिशत आदर्श लक्ष्य को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की। इसी प्रकार उद्योग एवं व्यापार जगत को रेल परिवहन की ओर आकर्षित करने की दिशा में मालगाड़ियों के संचलन गति में वृद्धि का प्रयास किया जा रहा है। मालगाड़ियों की 12 जुलाई 2020 को औसत संचलन गति लगभग 50 किमी. प्रति घंटा रही, जो स्वयं में एक उपलब्धि है। 

जनसम्पर्क अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि वाराणसी मंडल द्वारा संचालित की जा रही 26 ट्रेनों में से 20 ट्रेनें बिफोर टाइम पहुंची, 04 गाड़ियां राइट टाइम चलीं, जबकि 01 गाड़ी के संचलन समय को मेकअप किया गया। 01 गाड़ी पूर्वोत्तर रेलवे को देर से मिली, फिर भी इसे अपने सिस्टम पर समय से चलाया गया।वाराणसी मंडल द्वारा संचालित प्रमुख गाड़ियों में 02559/02560 मंडुवाडीह-नई दिल्ली-मंडुवाडीह शिवगंगा विशेष एक्सप्रेस, 02791/02792 पटना-सिकन्दराबाद-पटना विशेष एक्सप्रेस तथा 02565/02566 दरभंगा-नई दिल्ली-दरभंगा सप्तक्रांति एक्सप्रेस सम्मिलित हैं। 

बताया कि मालगाड़ियों की 12 जुलाई 2020 को औसत संचलन गति 50 किमी. प्रतिघंटा रही, जो एक उल्लेखनीय उपलब्धि है। मालगाड़ियों की गति में निरन्तर वृद्धि का क्रम जारी है। माह जून 2020 में मालगाड़ियों की औसत संचलन गति 35.5 किमी. प्रतिघंटा थी। 





Post a Comment

0 Comments