Book This Side For Ads....Purvanchal24

बलिया : मंडलायुक्त की समीक्षा में इन्हें मिली फटकार, इन अधिकारियों को नोटिस


बलिया। मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत ने शनिवार को विकास भवन सभागार में संचारी रोग नियंत्रण, कोविड-19, स्वच्छता और लॉकडाउन के संबंध में समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि इन सभी अभियान में स्वास्थ्य विभाग की अहम भूमिका है, लिहाजा जिसको जो जिम्मेदारी मिली है उसका निर्वहन गंभीरता से करें। समीक्षा के दौरान जिला सर्विलांस अधिकारी डा एके मिश्रा की लापरवाही सामने आने पर उन्होंने कड़ी फटकार लगाई। चेतावनी दी कि रिपोर्टिंग सही ढंग से करें। जिला सर्विलांस सेल का खराब कार्य होने पर संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य आजमगढ़ से भी सवाल किया और इस पर ध्यान देने को कहा। जिले भर में सर्वे में लगी टीम के कार्यों के बारे में जानकारी ली। कहा कि प्रतिदिन की सही रिपोर्ट उपलब्ध कराते रहें।

मंडलायुक्त ने कहा कि यह पहली बैठक है, लिहाजा चेतावनी देकर छोड़ रहा हूं। अगली बार से अगर लापरवाही मिली तो संबंधित अधिकारी की जवाबदेही तय होगी। स्वच्छता को लेकर चलाए जा रहे अभियान के बाबत नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी दिनेश विश्वकर्मा से जरूरी जानकारी ली। कहा कि सफाई कार्य मे तनिक भी लापरवाही नहीं होनी चाहिए। संचारी रोग नियंत्रण के सम्बंध में भी की जा रही कार्यवाही की समीक्षा की। 

प्रदेश मुख्यालय पर बात कर कराया अवगत

कोविड-19 की समीक्षा के दौरान संतोषजनक स्थिति नहीं मिलने पर नाराज मंडलायुक्त ने बैठक के दौरान ही स्वास्थ विभाग लखनऊ में किसी उच्चाधिकारी को फोन मिलाया और पूरी स्थिति से अवगत कराया। सीएमओ व अन्य स्वच्छता के अधिकारियों की लापरवाही की जानकारी दी।  

गायब महिला सीएमएस व एक्सईएन विद्युत से स्पष्टीकरण तलब

बैठक में महिला अस्पताल की सीएमएस व बिजली विभाग के एक्सइएन के गायब रहने पर कमिश्नर ने नाराजगी जताई और दोनों का स्पष्टीकरण तलब किया। महिला अस्पताल से जुड़ी व्यवस्था के बारे में पूछताछ की तो वरिष्ठ चिकित्सक जवाब देने को खड़ी हुई। इस पर उन्होंने सवाल किया कि महिला सीएमएस कहाँ है ? बताया गया कि वह 23 जून से ही जिले में नहीं है। संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य ने इसकी पड़ताल की तो पाया कि महिला सीएमएस न तो आज़मगढ़ से छुट्टी लेकर गईं है और न ही जिलाधिकारी के स्तर से। इस पर उन्होंने कड़ी नाराजगी जताते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही यह भी कहा कि उन पर आवश्यक कार्रवाई के लिए जिले से पत्र भिजवाया जाए। इसी प्रकार बिजली विभाग की समीक्षा शुरू हुई तो अधीक्षण अभियंता गायब थे। उनकी जगह पर एक अधिकारी आए थे, जो कमिश्नर के सवालों का जवाब नहीं दे पाए। पूछने पर बताया कि व्यक्तिगत कार्य से दिल्ली गए हैं। इस पर मंडलायुक्त ने कहा कि इनका स्पष्टीकरण तलब किया जाए कि इस परिस्थिति में किनसे अवकाश लेकर गए। संतोषजनक स्पष्टीकरण नहीं होने पर उनके विरुद्ध कार्रवाई के लिए शासन को पत्र भेजा जाए।

Post a Comment

0 Comments