बलिया को लेकर सीएम गंभीर, मिलेगी हर बेहतर व्यवस्था : आनंद


बलिया। राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा कि बलिया को लेकर मुख्यमंत्री जी पूरी तरह गंभीर हैं। उन्होंने साफ कहा कि प्रदेश में मिलने वाली हर उत्तम बेहतर व्यवस्था बलिया को भी मिलेगी। कलेक्ट्रेट सभागार में प्रेस प्रतिनिधियों से बातचीत में उन्होंने कहा कि यहां रैपिड किट की उपलब्धता बढ़ाने और मोबाइल टेस्टिंग लैब के लिए भी मुख्यमंत्री ने सहमति जता दी है। संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए हर प्रभावी कदम शासन स्तर से उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस आपदा में भी राजनीति करने वाले बाज नहीं आ रहे, पर हमारा पूरा ध्यान जनता की सेवा करने पर है। हमारा प्रयास यही है कि किस तरह संक्रमण को रोका जाए। इसमें जनता का भी जागरूक होना और सहयोग जरूरी है।

मरीजों को कोई दिक्कत नहीं, सुनियोजित थी शिकायत

मंत्री श्री शुक्ला ने कहा कि दो फैसिलिटी सेंटर का निरीक्षण किया और मरीजों से बातचीत की। मरीजों ने खानपान की व्यवस्था को बेहतर बताया। किसी को कोई दिक्कत नहीं है। इससे यह साफ है कि शिकायत सुनियोजित तरीके से की गयी है। दरअसल, मंत्री ने निरीक्षण के दौरान मरीजों से ही बातचीत कर व्यवस्था सम्बन्धी जानकारी ली। मरीजों ने बताया कि भोजन पानी की कोई दिक्कत नहीं है। सिर्फ समय से साफ सफाई की जरूरत बताई। इस पर मंत्री ने निर्देश दिया कि यहां कुछ और स्वीपर लगाएं जाएं। ग्रामीण सफाईकर्मियों को भी लगा सकते हैं। इस दौरान डीएम एसपी शाही, संयुक्त मजिस्ट्रेट विपिन जैन, सिटी मजिस्ट्रेट राजेश यादव आदि मौजूद थे।


लक्षणविहीन मरीजों के लिए एल-1 फैसिलिटी सेंटर की व्यवस्था जल्द

संसदीय कार्य राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला व जिलाधिकारी एसपी शाही ने रविवार को कलेक्ट्रेट सभागार में होटल संचालकों संग बैठक की। सरकार की नई गाईडलाईन के अनुसार, अब अन्य शहरों की तरह यहां भी एल-1 कोविड सेंटर स्थापित करने की पहल की जा रही है। इसमें केवल लक्षणविहीन मरीजों को ही रखा जाएगा। बैठक में इसी विषय पर होटल संचालकों संग चर्चा की गयी।

राज्यमंत्री श्री शुक्ला ने कहा कि मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच कुछ ऐसे भी मरीज सामने आ रहे हैं जो कोविड-19 फैसिलिटी सेंटर में जाने से संकोच कर रहे। ऐसे लोगों को होटल में तय दर पर सुविधा दी जानी है। होटलों में चिकित्सकीय व्यवस्था सीएमओ करेंगे, जिसमें एक डाॅक्टर, दो नर्स व एक फार्मासिस्ट तैनात रहेंगे। इसके लिए एकमुश्त दो हजार रूपए जमा करने होंगे। होटल रेंट के बारे में बताया गया कि डबल बेड कमरे के लिए दो हजार व सिंगल बेड कमरे के लिए 1500 रूपए से अधिक नहीं होना चाहिए। इन सुविधाओं को लेने के लिए रोगियों को एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर भी करना होगा। जिलाधिकारी व संयुक्त मजिस्ट्रेट ने भी सरकार की गाइडलाईन की विस्तृत जानकारी दी।

Post a Comment

0 Comments