अनलॉक हुई जिंदगी, मगर न रहे बेखबर ; क्योंकि...


कोरोना आया तो एक के बाद एक पाबंदियां लगती गईं। सब कुछ ठहर गया। यानी, हमारी जिंदगी ही लॉक हो गई। पर, आज फिर से नए सफर शुरू हो जाएंगे। ट्रेन हो, बस हो, ऑटो हो या फिर टैक्सी... सब दौड़ने लगेंगे। दफ्तर भी खुलेंगे। मगर इन राहतों के बीच बेखबर न रहें, लापरवाह न बनें। सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन का ख्याल रखें। बिना मास्क पहने घर से न निकलें, क्योंकि कोरोना से यही बचाएंगे।

भोला प्रसाद


Post a Comment

0 Comments