सात फेरे के बाद कोहबर में पहुंचा दूल्हा, फिर...


प्रयागराज। द्वारचार के बाद बराती और घराती खाना खा चुके थे। वर-वधू फेरे ले चुके थे। ढोल की थाप पर मंगल गीत के बीच कोहबर की रस्म अदा हो रही थी। इसी बीच, कन्या पक्ष की महिलाओं में कानाफूसी होने लगी कि दूल्हे का हाथ खराब है, क्योंकि रस्म के तहत दूल्हा अपने हाथों से जंजीर नहीं पकड़ पा रहा था। 

सोनौटी गांव निवासी कल्लू भारतीया के बेटे धर्मेंद्र की शादी थरवई थाना क्षेत्र के सकरा गांव निवासी राम अभिलाष की बेटी से तय हुई थी। बरात पहुंची तो लड़की पक्ष ने स्वागत सत्कार किया। रात में मंडप में शादी की रस्‍म हुई। अल सुबह करीब पांच बजे कोहबर में दूल्हा व दुल्हन के बीच जंजीर चुराने की रस्‍म हुई।उस समय दूल्हा एक-दो नहीं बल्कि कई बार जंजीर नहीं पकड़ पाया। इस पर लड़की पक्ष की महिलाओं ने दूल्हे का हाथ गड़बड़ होने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। तब तक कुछ और लोग आ गए और शादी टूटने की बात कहते हुए दूल्हे के पिता से विवाह का खर्च दो लाख रुपये मांगने लगे। इसी बात पर विवाद बढ़ा तो दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। आरोप है कि घरातियों ने दूल्हा, उसके पिता और अगुवा को बंधक बनाकर पिटाई कर दी। मारपीट की भनक लगते ही जनवास में सो रहे बराती भाग निकले।शादी समारोह में मारपीट की सूचना पर थरवई पुलिस पहुंची। दूल्हा, उसके पिता, शादी के अगुवा इंद्रजीत व दुल्हन के भाई लाल बिहारी को पकड़कर थाने ले आई। थानाध्यक्ष थरवई भुवनेश चौबे का कहना है कि यह बात सही है कि दूल्हे का हाथ ठीक से काम नहीं करता है। फिलहाल दोनों पक्षों से चार लोगों का शांतिभंग में चालान किया गया है।

Post a Comment

0 Comments