NH-31 की मरम्मत को पत्नी का जेवर भी बेचने को तैयार बलिया का यह शख्स, मांगी अनुमति


बैरिया, बलिया। नाम: सूर्यभान सिंह, पता : जयप्रकाश नगर, बलिया। यह उस शख्स का नाम है, जो समाजसेवा को अपना मूल कर्तव्य बना लिया है। समाज के लिए हमेशा दो कदम चलने वाले इस शख्स ने जर्जर ही नहीं, बल्कि पूरी तरह 'मौत का मंजर' बन चुकी NH-31 (बैरिया से मांझी तक) की मरम्मत का ऐलान किया है। इसके लिए इस शख्स को पत्नी का जेवर बेचने में भी गुरेज नहीं है। इसके लिए इन्होंने प्रशासन से अनुमति मांगी है। 

जी हां, सम्पूर्ण क्रान्ति के प्रणेता लोक नायक जय प्रकाश नारायण की धरती ने समय-समय पर  समाज को आइना दिखाया है। इस धरती पर कभी जनेऊ तोड़ो आन्दोलन तो कभी भूदान आदि योगदान इतिहास के पन्नों पर स्वर्णाक्षरों में दर्ज है। उसी त्याग रूपी आइना को दिखाते हुए जयप्रकाश नगर निवासी व जेपी के अनुआयी समाज सेवी सूर्मभान सिंह ने खस्ताहाली के शिकार एनएच 31 के निर्माण के लिए अपनी सम्पति व पत्नी का जेवर बेचकर 10 लाख रुपये देने का ऐलान किया है। एनएच निर्माण का सकंल्प लेते हुए श्री सिंह ने बुधवार को उप जिलाधिकारी बैरिया सुरेश पाल को पत्रक देकर अनुमति मांगी है। इस सकंल्प ने सबको आइना दिखा दिया है।

श्री सिंह ने बताया  किएनएच की दशा काफी दिनों से खराब है। इसके लिए बैरिया विधान सभा के कई युवाओं ने कई बार आन्दोलन किया, लेकिन आश्वासन के आलावा आज तक उन्हें विभाग से कुछ नहीं मिला। एनएच में जगह जगह बड़े बड़े गड्ढे बन गये है। कई लोगो की जान दुर्गघटना में चली गयी, फिर भी सरकार व विभाग पर कोई असर नहीं पड़ा। अब लोगो की समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर एनएच निर्माण के लिए क्या किया जाय। लोगों की सुविधा के लिए मैने फैसला किया है कि अपनी सम्पति व पत्नी का जेवर बेचकर 10 लाख रुपया विभाग को दूंगा। यही नहीं, जेपी के गांव से एनएच निर्माण के लिए गांव-गांव जाकर जनमानस के सहयोग से चन्दा रूपी भीख मांग कर विभाग को धन उपलब्ध कराऊंगा, ताकि एनएच 31 का निर्माण हो सके। ऐसा करने के लिए उन्होने बैरिया के एसडीएम से अनुमति मांगी है। बताया कि प्रशासन से अनुमति मिलते ही मै अपने मिशन पर लग जाऊंगा। उन्होने बताया कि एनएच का काया कल्प ही मेरा सकंल्प है।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments