NH-31 के मरम्मत को बलिया के सूर्यभान ने केंद्रीय मंत्री से मांगी अनुमति


बैरिया, बलिया। द्वाबा क्षेत्र के लोग एनएच-31 की मरम्मत के लिए लंबे समय से परेशान हैं। आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है। लोग मौत के मुंह में समा रहे हैं, लेकिन सड़क को आज तक नहीं बनाया जा सका। अब इस सड़क को लेकर द्वाबा में दूसरे तरीके की जंग शुरू हो चुकी है। जेपी की धरती जयप्रकाशनगर निवासी समाजसेवी सूर्यभान सिंह ने निजी कोष से 10 लाख रुपये देने की घोषणा के साथ ही इस सड़क को जनता से चंदा लेकर बनाने का ऐलान किया है। इसके लिए उन्होंने एसडीएम को पत्र देकर अनुमति मांगा है। फिर केंद्रीय सड़क परिवहन और राज मार्ग मंत्री नितिन गडकरी को भी पत्र भेज कर उसी बात को दोहराया है।

अपने पत्र में उन्होंने सवाल उठाया किया है कि द्वाबा की जनता को तीन सालों से किस गुनाह की सजा दी जा रही है। उन्होंने अवगत कराया है कि बेलहरी से मांझी घाट तक लगभग 35 किमी एनएच-31 की बदहाली को लेकर तीन साल से हंगामा हो रहा है। कभी युवाओं ने बीच सड़क पर धान की बोआई कर विरोध प्रदर्शन किया तो कभी सड़क के गड्ढ़े में मछली पालन कर विरोध जताया। युवाओं ने कभी सड़क जाम किया तो कभी आत्म दाह करने की भी कोशिश की। इसके बावजूद अधिकारी हमेशा यहां के लोगों को झूठा आश्वासन देकर गुमराह करते रहे। उन्होंने केंद्रीय मंत्री से यह अनुमति मांगी है कि जनता वैसे भी सड़क का टैक्स देती है, यदि आपकी की ओर से अनुमति दी जाए तो जनता खुद के चंदा से इस सड़क का निर्माण करा देगी। 

आज भी पड़ी है वह कार

गड्ढायुक्त सड़क के कारण विगत वर्ष बैरिया की ओर से पटना जा रही एक कार में सवार छह युवकों में चार युवक कर्ण छपरा जीन बाबा के पास दुर्घटना का शिकार होकर मौत के मुंह में समा गए थे। उनकी वह कार आज भी वहीं पड़ी है। इस तरह तीन सालों में दर्जनों लोगों की जान इस सड़क के कारण जा चुकी है, जबकि घायल होने वाले लोगों की संख्या की गिनती ही नहीं की जा सकती। यह एनएच मांझी में जयप्रभा सेतु के माध्यम से यूपी ओर बिहार को जोड़ता है, फिर यह अनदेखी अब किसी से भी नहीं सही जा रही है।


शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments