बलिया : किसानों की बात सुन मंत्री ने किया इन अफसरों को कॉल


बलिया। महीनों पहले बाढ़ तबाही मचाकर चली गई। सैकड़ों एकड़ धान की फसल भी बहाकर लेती गई, लेकिन अभी तक एक धेला भी मुआवजा नहीं मिलने से गड़हांचल के किसान आहत हैं। किसानों ने फसल बीमा व बाढ़ राहत राशि के लिए बुधवार को क्षेत्रीय विधायक व प्रदेश सरकार के मंत्री उपेंद्र तिवारी से उनके आवास पर भेंट किया। उन्हें पत्रक सौंप कर किसानों का लाभ शीघ्र दिवालने की मांग की।

मंत्री श्री तिवारी से मिलकर किसानों ने कहा कि बीते साल आई बाढ़ ने गड़हांचल में भयंकर तबाही मचायी थी। इलाके के बघौना, टुटुवारी, उजियार, मेड़वरा, रामगढ़, एकौनी, दौलतपुर, पिपरा, चौरा, कथरिया व फिरोजपुर बाढ़ के पानी से चारों तरफ से घिर गए थे। बाढ़ की विभीषिका ने किसानों की धान की फसल को बर्बाद कर दिया था। उसके तत्काल बाद प्रदेश सरकार ने उन सभी किसानों को बाढ़ राहत राशि देने का निर्णय लिया था, जिनकी फसल चौपट हो गई थी। 

सरकार की इस घोषणा के बाद गड़हांचल के किसान भी आशान्वित थे कि उन्हें भी उनकी बर्बाद हुए धान का मुआवजा मिलेगा। लेकिन साल बदल गया, किसान मुआवजे की बाट जोहते रह गए। यही नहीं खरीफ फसल 2019 के लिए किसानों ने प्रीमियम भी जमा किया था। बावजूद इसके फसल की क्षति होने पर बीमा की राशि अब तक नहीं मिली है। तहसील और बीमा कंपनी का चक्कर लगाकर थक चुके किसानों ने मंगलवार को बघौना गांव के बाहर खलिहान में एक बैठक भी की। जिसमें बाढ़ राहत व फसल बीमा की राशि के लिए चर्चा की गई। 

किसानों की बात सुनने के तुरंत बाद मंत्री श्री तिवारी ने कृषि उप निदेशक व जिला कृषि अधिकारी को बुलाकर किसानों की पीड़ा से अवगत कराया। साथ ही किसानों को उनके लाभ दिलाने के लिए निर्देश दिए। इस अवसर पर बिजेंद्र राय, अशोक राय, अक्षय राय एडवोकेट, सत्येंद्र राय, धनंजय उपाध्याय, मोहन राय, घनश्याम राय, संतोष सिंह व संजय सिंह आदि थे।

Post a Comment

0 Comments