बलिया : प्रवासियों को लाभ देने में यह नगर पंचायत कर रहा भेदभाव


बांसडीह, बलिया। नगर पंचायत बांसडीह द्वारा  राहत सामग्री वितरण के डाटा फीडिंग में उदासीनता के कारण बहुत से प्रवासी सरकार द्वारा दिए जा रहे लाभ से वंचित हो गए है। नगर पंचायत प्रशासन ने अपने कर्मचारियों के माध्यम से प्रवासियों के नाम का चयन किया है।

वार्ड नं 11 के सभासद राजेश कुमार ने आरोप लगाया कि हमारे वार्ड में बाहर से 52 प्रवासी आये हुए है, लेकिन कुछ चेयरमैन के करीबी सभासदो ने इस सूची को गड़बड़ करते हुए प्रवासियो का नाम राहत सामग्री की सूची से वंचित कर दिया है। कहा कि जिलाधिकारी द्वारा बनाई गई निगरानी समिति के रजिस्टर में हमने सभी का नाम दर्ज कर नियमानुसार आधार कार्ड एवं बैंक खाता नगर पंचायत को ससमय जमा करा दिया। लेकिन द्वेषता वश उसमें मात्र 13 प्रवासियो को राहत सामग्री के लिये चयन किया गया है। 

इसी तरह से वार्ड नं 2 की सभासद बेबी देवी ने 11 प्रवसियो का आधार कार्ड एवं बैंक खाता मुहैया कराया था, लेकिन मात्र 3 लोगो का ही चयन किया गया है। लॉक डाउन में योगी सरकार द्वारा बाहर से आये सभी प्रवासियो को रोजगार एवं अस्थायी राशन कार्ड उपलब्ध कराने के साथ ही राहत सामग्री के लिये कोरेन्टीन रहे व्यक्तियों को 10 किलो चावल, 10 किलो आटा, 1 किलो तेल, आलू, नामक इत्यादि खाद्यान्न उपलब्ध करने के लिये चयन करना है।

नगर पंचायत प्रशासन की उदासीनता के कारण नगर के 15 वार्डो से मात्र 156 प्रवासियो का स्वीकृत किया गया है। वही जिन प्रवासियो का नाम सूची में नही आया वह नगर पंचायत के खिलाफ अपना रोष प्रकट कर रहे है। वही शासन द्वारा नामित सभासद ने कहा है कि प्रवासियो के नाम के चयन में धांधली कर सरकार की छवि नगर पंचायत धूमिल करने में लगा है। उन्होंने तत्काल वंचित प्रवसियो का नाम जोड़े जाने की मांग की। साथ ही इसकी जानकारी पत्र के माध्यम से उच्चस्तरीय पदाधिकारियों को देने की बात कही।


विजय गुप्ता

Post a Comment

0 Comments