बलिया : जिन्दगी इस कदर लाचार हो गई, भूख ही मजदूर की खुराक हो गई...



1947 बंटवारे का दर्द झेलने के बाद देश की सड़कों पर बेबसी, लाचारी और भूख का यह मंजर पहली बार दिख रहा है। मुल्क के माजी को अपने पसीने से सींचने वाला मजदूर आज अपने ही देश में शरणार्थी और प्रवासी बनकर रह गया है। कोरोना के भय पर भारी पड़ती भूख व मुफलिसी का दंश झेल रहे लाखों मजदूर चिलचिलाती धूप, आंधी, बारिश और ओलों से टकराते हुए अपने घर की तरफ बढ़ रहे हैं, जिनमें से कई मजदूरों का संघर्ष तो रेल की पटरियों और सड़क दुर्घटनाओं में दम तोड़ चुका है।

दूध मुंहे बच्चे को अपनी गोद और आंसुओं को पलकों में छुपाए मजदूर इस उम्मीद के साथ अपने गांव की तरफ बढ़ रहे हैं, कि उनके गांव की मिट्टी उनके जख्मों पर मरहम लगाएगी। लेकिन अधिकांश मजदूरों का संघर्ष गांव पहुंचकर भी जारी है। कई जगह पर इनको सामाजिक तिरस्कार का सामना करना पड़ रहा है। नाकाफी व्यवस्थाओं के बीच चल रहे क्वॉरेंटाइन सेंटरों में भी सिर्फ आंशिक संख्या में ही मजदूरों को रखा जा रहा है। अधिकांश को होम क्वॉरेंटाइन का फतवा सुना कर घर भेज दिया जा रहा है। 

लेकिन मजदूरों का दूसरा संघर्ष अपने गांव पहुंचने के बाद शुरू हो रहा है। दो कमरों के घर और झोपड़पट्टी में जीवनयापन कर रहे बड़े परिवार के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कैसे मुनासिब है? और 21 दिन के संघर्षपूर्ण होम क्वारंटीन के बाद भी यदि गांव में काम नहीं मिला तो अपने ही मिट्टी में मजदूर, मुहाजिर बनकर रह जाएंगे। इस विकट परिस्थिति से निपटने के लिए ना तो कोई सरकारी योजना धरातल पर है ना ही गांवों में सामर्थवानों व जनप्रतिनिधिययों को इन मजदूरों की कोई चिन्ता है। 

कल्पना कीजिए, यदि घर वापसी के बाद भी मजदूरों के बोझिल कंधों को आराम और हाथों को काम ना मिला तो आखिर किस सहारे अपने जिंदगी का संघर्ष जारी रख पाएंगे ? देश व प्रदेश की सरकारें यकीनन प्रयासरत है, लेकिन देश की आबादी भी बहुत बड़ी है। इसलिए सरकारों के अलावा आम नागरिकों को भी इस विपदा की घड़ी में मजदूरों के लिए यथासंभव हाथ बढ़ाना होगा।उद्योगपति और ठेकेदारों ने अगर इन मजदूरों के दर्द को समझने का प्रयास किया होता, इनके साथ दोहरा आचरण ना किया होता और राजनीतिक दलों ने क्षेत्र आधारित गंदी राजनीति को बढ़ावा न दिया होता तो आज मजदूरों की हालत इतनी दयनीय व चिन्तनीय ना होती। 

फिर भी अभी वक्त है। हम सभी को आत्ममंथन करना होगा और अपने मजदूर साथियों की तरफ अपनत्व का हाथ बढ़ाना होगा, क्योंकि इन्हीं मजदूरों के मजबूत कंधों पर सशक्त भारत की नींव है। अंत में बस इतना ही...

ज़िन्दगी इस कदर लाचार हो गई।
भूख ही मजदूर का खुराक हो गई।।

कमल राय
कमल राय
नरही, बलिया (उप्र)

नोट : यह लेखक का स्वतंत्र विचार है। 

Post a Comment

0 Comments