बलिया : घर पहुंचकर भी 'घर' नहीं पहुंच सका युवा प्रवासी, क्योंकि देहरी पर खड़ी थी मौत


रसड़ा, बलिया। रसड़ा कोतवाली क्षेत्र के मोतिरा गांव में शनिवार की रात करंट की जद में आने से प्रवासी मजदूर की मौत है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मोतिरा गांव निवासी मोहरील राजभर (20) पुत्र निठाली राजभर के दो पुत्र थे। सबसे बड़े पुत्र मोहरील राजभर केरल प्रदेश में रहकर नौकरी कर परिवार का भरण पोषण करता था। लाकडाउन की वजह से परेशान मोहरील केरल में किसी तरह शनिवार को अपने गांव मोतिरा पहुंचा। परिजन तथा गांव के लोगों ने उससे गांव के बाहर रुकने को कहा। 

मोहरील गांव से सटे गांव चनाडीह में एक ट्यूबेल पर पहुंचकर नहाया धोया और अपना कपड़ा बगल के खेत के लोहे के तार पर सूखने के लिए टांग दिया। मोहरील अपना कपड़ा उतारने पहुंचा तो लोहे के तार में करंट दौड़ रहा था, जिसकी जद में आने से झुलस गया। आनन-फानन में उसे सीएचसी पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।।मोहरील की मौत से परिवार में कोहराम मचा है।


शिवानंद बागले

Post a Comment

0 Comments