नान इन्टरलॉकिंग कार्यो का निरीक्षण मंडल रेल प्रबंधक ने कही ये बात


वाराणसी। मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार ने बुधवार को सिगनल अपग्रेडेशन के निमित्त नान इन्टरलॉकिंग कार्य हेतु मऊ-आजमगढ़ रेल खण्ड एवं आजमगढ़ रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया। इस अवसर पर उनके साथ वरिष्ठ मंडल इंजीनियर (समन्वय) राजीव अग्रवाल, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक रोहित गुप्ता, वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर आशुतोष पाण्डेय, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर (सामान्य)  एसके यादव, मंडल इंजीनियर सामान्य एके सिंह एवं निर्माण संगठन के अधिकारी उपस्थित थे।



उन्होंने आजमगढ़ रेलवे स्टेशन पर चल रहे सिगनल अपग्रेडेशन स्टैंडर्ड-1 से स्टैंडर्ड-2 रिवाइज्ड में परिवर्तन के कार्यों का गहन निरीक्षण किया। सेमाफोर सिगनलों के स्थान पर कलर लाइट सिगनलों, नील्स टोकन ब्लाक यंत्रों के स्थान पर लगने वाले युनिवर्सल फेल सेफ ब्लाक यंत्रों, डोमिनो कंट्रोल पैनल, आईआरएस रोटरी पॉइंट मशीनों, एक्सल काउंटरों, इंटिग्रेटेड पावर सप्लाई सिस्टम, एलईडी लाइट्स तथा रिले रूम की वायरिंग का निरिक्षण किया।



ज्ञातव्य हो की मऊ से आजमगढ़ के मध्य पड़ने वाले सभी स्टेशनों का सिगनल अपग्रेडेशन कार्य पूरा किया जा चूका है, अब केवल आजमगढ़ स्टेशन ही बाकी है। आजमगढ़ स्टेशन का सिगनल अपग्रेडेशन करने के लिए स्टेशन पर नान इन्टरलॉक कार्य अतिशीघ्र प्रारम्भ होगा। इसके अतिरिक्त उन्होंने आजमगढ़ स्टेशन से गुजरने वाली श्रमिक स्पेशल गाड़ियों के आवागमन में कोविड-19 के प्रोटोकॉल के कड़ाई से पालन करने यथा थर्मल स्क्रीनिंग, फेस मास्क और सामाजिक दूरी कायम रखने पर बल दिया। 



उन्होंने स्टेशन के प्लेटफार्म से स्टेशन भवन के निकास गेट तक समाजिक दूरी बनाये रखने हेतु मार्क लगाने का निर्देश दिया। इसके अतिरिक्त उन्होंने स्पेशल गाड़ियों की व्यापक व्यवस्थाओं हेतु स्टेशन भवन, सर्कुलेटिंग एरिया, कंप्यूटरीकृत आरक्षण केंद्र, सामान्य यात्री हाल, पैदल उपरिगामी पुल, स्टेशन के निकास एवं प्रवेश मार्ग, स्टेशन पर पार्किंग को व्यापक सेनेटाईज कराकर पर्याप्त दूरी की मार्किंग कराने का संबंधितों को निर्देश दिया। मंडल रेल प्रबंधक ने बताया कि पूर्वोत्तर रेलवे अपने यात्रियों को कोरोना से बचाने के प्रति सचेत है। मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों पर कोविड-19 के नियमों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जा रहा है।

Post a Comment

0 Comments