मां-बाप समेत चार हत्याओं का बेटा ही निकला मास्टरमाइंड


प्रयागराज। धूमनगंज के प्रीतमनगर में इलेक्ट्रॉनिक्स कारोबारी तुलसीदास व उनकी पत्नी, बेटी व बहू की गला रेतकर की गई हत्या का खुलासा कुछ घंटों बाद ही पुलिस ने कर दिया। पुलिस ने बेटे आतिश उर्फ आशीष को गिरफ्तार करते हुए दावा किया कि अवैध संबंध के विरोध मेें उसने आठ लाख सुपारी देकर चारों हत्याएं कराई। बेटे समेत सुपारी लेेने वाले उसकी दुकान के कर्मचारी को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि  दो बदमाशों की तलाश जारी है।

प्रीतमनगर में नीवा चौकी के पास रहने वाले तुलसीदास (63) केसरवानी घर में ही इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान चलाते थे। परिवार में बेटे आतिश के अलावा पत्नी किरण (60), बेटी निहारिका उर्फ गुड़िया (37) और बहू प्रियंका (27) थी। आतिश भी दुकान चलाने में पिता का हाथ बंटाता था। 3.45 बजे के करीब पुलिस को सूचना मिली कि तुलसीदास, उनकी पत्नी, बेटी व बहू की घर के भीतर गला रेतकर हत्या कर दी गई है।

एक साथ चार हत्याओं की सूचना पर पुलिस अफसरों के भी होश उड़ गए। एडीजी, आईजी, एसएसपी समेत तमाम अफसर मौके पर पहुंच गए। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की तो घर में किसी के जबरन घुसने के सबूत नहीं मिले। जांच पड़ताल के क्रम में ही यह भी बात सामने आई कि मृतक व्यापारी व परिवार के अन्य लोगों के बेटे आतिश से संबंध अच्छे नहीं थे। घर में आए दिन विवाद होता था। जिसकी वजह उसका एक महिला से अवैध संबंध थे।

पुलिस ने कारोबारी के बेटे से जब सख्ती से पूछताछ की तो उसने सच्चाई बयां कर दी। बताया कि उसने अपनी दुकान में काम करने वाले अनुज श्रीवास्तव संग मिलकर इस हत्याकांड की साजिश रची। उसने अनुज को आठ लाख रुपये में हत्या की सुपारी दी। जिसने कौशाम्बी के अजुहा निवासी दो भाड़े के कातिलों से इस हत्याकांड को अंजाम दिलाया। वारदात के कुछ देर बाद ही अनुज को भी गिरफ्तार कर लिया गया।



Post a Comment

0 Comments