टिड्डी दल की इंट्री पर बलिया में अलर्ट, ऐसे करें बचाव


बलिया। राजस्थान के सीमावर्ती जिलों से जनपद में टिड्डी दल के प्रवेश की संभावनाओं के दृष्टिगत जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। फसलों पर टिड्डी दल के हमले की आशंका को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। बलिया में मंगलवार को एक बड़े टिड्डी दल के प्रवेश की आशंका जताई गई है।टिड्डी नियंत्रण की सलाह देते मुख्य विकास अधिकारी बद्रीनाथ सिंह ने आवश्यक जानकारी दी है।

यांत्रिक उपाय
टिड्डी दल के यांत्रिक नियंत्रण के लिए धुआं करना, ढोल, नगाड़े, ड्रम व डीजे बजाकर शोर मचाने से इस कीट को पेड़ों एवं फसलों पर बैठने से रोका जाए।

रासायनिक नियंत्रण
-मेलाथियान 5% धूल 25 केजी
-फनवेल 4% धूल 25 किलोग्राम।
-क्लोरपीरिफॉस 10% धूल 15 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से बुरकाव कराएं
-क्लोरपीरिफॉस 20% ई.सी. की 1.25 लीटर मात्रा को 500 लीटर पानी में घोल बनाकर स्प्रे कराएं।
-क्लोरपीरिफॉस 50%+ साइपरमैथरीन 5℅ ई.सी. 500 लीटर पानी में घोल बनाकर स्प्रे करें।
-lemdacymethrin 5 लीटर को 500 लीटर पानी में घोल बनाकर स्प्रे करें।
-टिड्डी दल के प्रभावी नियंत्रण हेतु मेलाथियान 96% ulv का छिड़काव अत्यंत प्रभावी हैं, परंतु यह रसायन जनसामान्य को उपलब्ध नहीं होता है। इसका प्रयोग संभव नहीं है। यह रसायन टिड्डी नियंत्रण संबंधी सरकारी तंत्र को उपलब्ध हो सकता है। रसायन के छिड़काव के लिए उपयुक्त समय रात्रि 11:00 बजे से सुबह 8:00 बजे तक होता है।

टिड्डी दल के आक्रमण की दशा में लोकस्ट कंट्रोल आर्गेनाईजेशन फरीदाबाद को 
www:ppqs.gov.in अथवा केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र लखनऊ के फोन नंबर 0522-2732063 एवं Email : ipmup12@nic.in अथवा कृषि निदेशालय के कंट्रोल रूम 0522-2205867 पर सूचित करें।जिसके माध्यम से नियंत्रण कार्य में सहयोग प्राप्त किया जा सके।

जनपद स्तर पर कंट्रोल रूम

श्रीमती प्रियनंदा, जिला कृषि रक्षा अधिकारी मोबाइल नम्बर 97953 40568

हरेन्द्र कुमार मौर्य, तकनीकी सहायक
मोबाइल नंबर 8896 710 262 

देवेश आनंद सिंह, तकनीकी सहायक  
मोबाइल नंबर 95987 25565










Post a Comment

0 Comments