बलिया के BJP विधायक ने किया संघर्ष का ऐलान, जानें पूरा मामला


बलिया। भू-माफियाओं से इब्राहिमाबाद पशु मेले की जमीन को जनहित में मुक्त कराने के बजाय अपने लोगों के नाम बैनामा करा लेना निंदनीय है। इसको कोई भी सभ्य समाज स्वीकार नहीं करेगा। अगर ऐसे काम अंजान में होते हैं तो उसे सुधारा जा सकता है, किंतु जान बूझकर ऐसा काम करता या कराता है तो अक्षम्य है, यह अपराध की श्रेणी में है। इस तरह के कार्यों को मैं बर्दाश्त नहीं करूंगा, बल्कि पुरजोर विरोध करूंगा। अगर नहीं किया तो मेरे सार्वनिक जीवन का कोई अर्थ ही नहीं रह जाएगा।

यह उद्गार विधायक सुरेंद्र सिंह के हैं, जो रविवार को चांदपुर स्थित अपने पैतृक आवास पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि सुदिष्ट बाबा का इब्राहिमाबाद पशु मेला सैकड़ों वर्षों से इब्राहिमाबाद के पास ग्राम समाज की जमीन में लगता है। जिला पंचायत इस मेले का आयोजन करता है, जिसमें पांच प्रतिशत लाभांश ग्राम पंचायत इब्राहिमाबाद उपरवार को देता है। दो दशक पूर्व कुछ भू-माफियाओं ने राजस्व व चकबंदी विभाग के भ्रष्ट कर्मचारियों व अधिकारियों से मिलकर उक्त ग्राम समाज की जमीन को कूटरचित कागजातों के आधार पर अपने नाम करा लिया और उसे दूसरों को बेच दिया। जो लोग खरीदे थे, वे जनदबाव के कारण काबिज नहीं हो सके। 

उन्हीं लोगों से दलकी निवासी विनय सिंह की कंपनी ने गत दिवस 25 बीघा जमीन खरीद लिया। विधायक ने कहा कि विनय सिंह सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के भांजा हैं। इस तरह के कार्य से मैं मर्माहत हुआ हूं। इस प्रकरण को ग्राम सभा से विधान सभा तक डीएम से सीएम तक ले जाऊंगा। इसका पुरजोर विरोध करूंगा।

विधायक ने बैनामा के दस्तावेज की छायाप्रति पत्रकारों को दिखाते हुए कहा कि इसमें विक्रेता, क्रेता व गवाहों का नाम देख लीजिए। पूरी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। इस पशु मेला के साथ संत शिरोमिण सुदिष्ट बाबा का नाम जुड़ा हुआ है। इसलिए इस मेले की जमीन के मामले को लेकर बैरिया विधानसभा क्षेत्र के गांव-गांव जाऊंगा और लोगों को वस्तुस्थिति बताऊंगा। लोगों से पशु मेला जमीन को मुक्त कराने के कार्यक्रम में शामिल होने का आग्रह करूंगा।




Post a Comment

0 Comments