Breaking News
Home » बलिया » बलिया में गंगा ने तीसरी बार बजायी खतरे की घंटी, नौरंगा में मची खलबली

बलिया में गंगा ने तीसरी बार बजायी खतरे की घंटी, नौरंगा में मची खलबली

बैरिया/मझौवां, बलिया। गंगा नदी की लहरें एक बार फिर लाल निशान पार करने को मचलने लगी है। प्रति घंटे 7 सेमी की रफ्तार से बढ़ रही गंगा का जलस्तर शुक्रवार की अपरान्ह एक बजे बाढ़ नियंत्रण कक्ष गायघाट पर 57.167 मीटर रिकार्ड किया गया। पूर्वानुमान है कि 14 सितम्बर को सुबह 8 बजे जलस्तर लाल निशान 57.615 मीटर की विन्दु को पार कर 97.970 मीटर पर पहुंच जायेगा।

उधर, गंगा नदी में बढ़ाव से नौरंगा में कटान तेज हो गया है। नौरंगा में दक्षिण तरफ तो शिवपुर घाट पर उत्तर के तरफ व नौरंगा से उत्तर पूरब गोपालपुर में उत्तर की तरफ कटान ने लोगों की सोच को उलझा दिया है।गंगा की टेढ़ी मेढ़ी धारा से हो रहा कटान चिंता का विषय है। फिलहाल गंगा उस पार नौरंगा, चक्की नौरंगा, भुआल छपरा के सामने गंगा में कटान होने के कारण उत्तर प्रदेश के उक्त तीनों गांवों पर खतरा उत्पन्न हो गया है। बैरिया तहसील में पड़ने वाले इन तीनों गांवों के सामने करीब एक किमी की लंबाई व 150 मीटर की चौड़ाई में गंगा ने इस साल उपजाऊ जमीन अपने आगोश में ले लिया है। शासन-प्रशासन के लोगों से ग्रामीणों द्वारा बार-बार गुहार के बावजूद कोई भी आला अधिकारी गंगा उस पार इन गांवों की स्थिति-परिस्थिति व कटान को देखने के लिए नहीं पहुंच पाया है। ये गांव और यहां के लोग पूरी तरह से भगवान के भरोसे हैं।

उक्त गांव के पूर्व प्रधान प्रतिनिधि राजमंगल ठाकुर ने बताया कि कई बार मैंने जिलाधिकारी भवानी सिंह खंगारौत से मिलकर कटान का जायजा लेने के लिए नौरंगा चलने का आग्रह किया। जिलाधिकारी ने बाढ़ विभाग के अधिशासी अभियंता के नेतृत्व में अभियंताओं की एक टीम मौके पर भेजी जो कटान देखकर वापस चली गयी।जिलाधिकारी ने आश्वस्त किया है कि बाढ़ का पानी कम हो जाने पर मैं नौरंगा चलूंगा और वहां कटान रोकने के लिए जरूरी उपाय करूंगा।

विधायक का दावा

बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह ने बताया कि मैंने वहां का कटान देखा है। इस संदर्भ में सिंचाई मंत्री से मिलकर बिहार के गोद में बसे यूपी के इन गांवों को बचाने के लिए कटानरोधी कार्य शुरू कराने हेतु धन स्वीकृत करने का आग्रह किया हूं। विधायक ने स्पष्ट किया कि किसी भी कीमत पर नौरंगा, चक्की नौरंगा, भुआल छपरा को गंगा के कटान से बचाया जाएगा।

बोले ग्रामीण

नौरंगा गांव के दर्जनों ग्रामीणों ने बताया कि गंगा पिछले वर्ष गांव से एक किमी दूर थी, अब काफी करीब आ गई है। सरकार द्वारा पिछले साल बनवाई गई पानी टंकी सहित कई भवन व मंदिर के निकट कटान पहुंच चुका है। अगर जल्द कोई उपाय नहीं किया गया तो नौरंगा, चक्की नौरंगा, भुआल छपरा का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। ये गांव एक बार फिर बिहार के नक्शे में बस जाएंगे अथवा उन्हें गंगा इस पार लाकर बसाना पड़ेगा।

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

‘इंडियन आइडल’ में छाया बलिया का पल्लव, गाना सुनकर खूब नाचे नेहा कक्कड़ और विशाल

बलिया। टेलीविजन की पॉपुलर रियलिटी शो ‘इंडियन आइडल’ का 11वां सीजन का आगाज हो चुका …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.