Breaking News
Home » अपनी बात » पटरी से उतरकर ट्विटर पर चल रही रेलवे Purvanchal24

पटरी से उतरकर ट्विटर पर चल रही रेलवे Purvanchal24

#इंडियन_रेलवे ऑन #Twitter

कश्मीर की हसीन वादियों और चांद-चंद्रयान की रोमांचक स्टोरी से मन भर गया हो तो धरती पर लौट आइये, जहां हकीकत आपकी राह देख रही है।

कितना अजीब है न… एक तरफ हम चांद के पार चलो का नगमा गुनगुना रहे है, तो दूसरी तरफ घर से निकलते ही मुसीबतों का पहाड़ राह में खड़ा है। देश बुलेट ट्रेन की बेसब्री से इंतजार कर रहा है और जो ट्रेन चलती है, उसके यात्रियों का दम घुट रहा है। लेटलतीफी मानों पुराने दिनों की बात है। स्वच्छ भारत अभियान में सरकार के साथ रहे रेलवे में गंदगी ने पांव जमा लिया है। बिजली- पानी का संकट भी है।

दरअसल, #इंडियन_रेलवे पटरी से उतरकर #ट्विटर पर चल रही है। कुछ दिनों से मैं भी ट्विटर पर हूं। यह बात अलग है कि मेरे फालोवर बड़ी मुश्किल से दहाई का आंकड़ा पार किये है।

खैर, इसकी कई वजहें है। बात रेलवे की। ट्विटर पर सबसे सक्रिय रेलवे ही है। कुछ भी लिखो, 10 मिनट में रिप्लाई जरूर मिलेगा। कार्रवाई की कोई गारंटी नहीं है। वैसे कई मामलों में कार्रवाई भी होती है। भले मेरा अनुभव सही न हो। जुलाई के आखिरी हफ्ते में मथुरा से वापसी के दौरान ट्रेन में कुछ दिक्कत हुई, तो मैंने आगरा तक पहुंचते ट्विटर डाउनलोड कर लिया। फिर फटाक से शिकायत भी कर दी। जवाब मिला तो खुशी हुई। यह अलग बात है कि बक्सर उतरने तक मुझे असर नहीं दिखा।

वैसे तो कई दिनों से ट्विटर पर #चंद्रयान का ही कब्जा है, लेकिन रेल यात्रियों की पीड़ा भी कूद-कूद कर अपनी तरफ ध्यान दिला रही है। यात्रियों की समस्या दूर करने के लिये ट्रेन में कोच अटेंडेंट के साथ ही तमाम अधिकारी है, लेकिन निराश-हताश यात्री सीधे अब रेल मंत्री को अपनी बात कहना चाहते है। मुश्किलों में कुछ उम्मीद बची है। लेकिन समस्याएं जस की तस है। आखिर क्यों नहीं सुधर रहे अधिकारी।

पिछले महीने घर जा रहा था। सुबह 3 बजे ही #बलिया स्टेशन पर उतर गया। बारिश हो रही थी। सोचा, खाली समय में कुछ हल्का हो लूं। रेलवे के शौचालय में गया। लौटा तो काउंटर पर बैठे सज्जन ने 10 रुपये मांगा। मैंने कहा- 5 रुपये लिखा है, तो बोला 5 रुपये बैग की रखवाली के लिये। चुपचाप दे दिया। अब सोचता हूं कि ट्विटर पर शिकायत कर देनी चाहिये थी।

आपको यदि ट्रेन की यात्रा करनी है, तो रिजर्वेशन कराने के साथ ट्विटर अकाउंट भी खोल लीजिये। यकीन मानिए, कुछ तो राहत मिलेगी। ऐसे आपको दिक्कत होगी, तो गला फाड़कर चिल्लायेंगे, तब भी कोई नहीं सुनेगा। और हां, जब भी ट्वीट कीजिये, केंद्रीय रेलमंत्री Piyush Goyal जी को टैग करना मत भूलियेगा। क्योंकि, साहेब लोग सक्रिय तभी होंगे, जब उन्हें मालूम होगा कि उनके आका तक खबर पहुंच चुकी है।

धनंजय पांडेय ‘वरिष्ठ पत्रकार’ प्रभात खबर (यह लेखक का अपना विचार है।)

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

एहसान का दिखावा न करें साहब ! सरकार ने जो दिया है वही हमें दें

प्रयागराज से लेकर बलिया जनपद तक गंगा नदी का कहर क्या रहा। सब को पता …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.