Breaking News
Home » अपनी बात » प्रेरणा एप : नेतागिरी की उफान में बेमानी लगने लगा यह नारा

प्रेरणा एप : नेतागिरी की उफान में बेमानी लगने लगा यह नारा

संघे शक्ति कलियुगे के नारे के साथ जिस संगठन ने शासन को अपनी शक्ति से अवगत करवाया था, आज वही संगठन एक ही मांग के लिए अलग-अलग दरियों पर अलग-अलग माइक के साथ धरना देता है।

जब नियोक्ता एक है। विभाग एक है। विभाग की कार्यप्रणाली एक है और सबकी प्रमुख समस्याएं एक ही हैं तो फिर दरियां अलग अलग क्यों बिछती हैं ? सबको एक ही मुद्दे पर लड़ना है तो सब एक ही मंच पर क्यों नहीं आते ? जब शिक्षक हित ही सर्वोपरि है तो सबको एक हो जाना चाहिए था। एक होने के लिए तो बहुत लंबा चौड़ा हिसाब किताब नहीं है एक ही काम करना है, या तो सबको अपने साथ ले चलो नहीं तो जो सबको साथ लेकर चल रहा है उसके साथ हो लो, लेकिन ऐसा है नहीं। ऊपरी मन से भले ही सब शिक्षक हित के पुरोधा बनें, लेकिन भीतर मन से सबकी अपनी राजनीति ज्यादा प्रभावी होने लग जाती है।

जूनियर का अलग संगठन, प्राथमिक का अलग संगठन इन दोनों संगठनों में भी अलग-अलग गुट। इनके अलावा विशिष्ट BTC का अलग संगठन, 68500 का अलग संगठन, टेट शिक्षक, BTC शिक्षक और मृतक आश्रित शिक्षकों का सबका अलग अलग संगठन है।

दर्जन भर संगठन हो चुके हैं और आये दिन स्वघोषित अध्यक्ष ख़ुद को शिक्षकों का रजिस्टर्ड नेता घोषित करवा रहे हैं। नेतागिरी इतनी उफान मार रही है कि हर प्राथमिक स्कूल का अलग संगठन बन जाये तो इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी।

इसीलिए अब आवाज दो हम एक हैं का नारा बेमानी लगता है। हम एक नहीं हैं हम रजिस्टर्ड मान्यता प्राप्त अकेले लोग हैं।

हिंदी के महान कवि माखन लाल चतुर्वेदी ने ठीक ही लिखा है…

इधर राम ने दे दी ठोकर, उधर भरत ने भी ठुकराया।

तभी ‘अवध’ के सिंहासन पर विजयी रामराज्य हरषाया।

इक-इक पद पर सौ-सौ टूटें, कहैं कबीर सुनो भाई साधो।

अपनी इस अनमोल अकल पर रामराज्य का स्वांग न बांधो।

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

एहसान का दिखावा न करें साहब ! सरकार ने जो दिया है वही हमें दें

प्रयागराज से लेकर बलिया जनपद तक गंगा नदी का कहर क्या रहा। सब को पता …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.