Breaking News
Home » बेबाक साहित्य धारा » उत्साह से लवरेज रहा ‘तय करों, किस ओर हो तुम’ कार्यक्रम

उत्साह से लवरेज रहा ‘तय करों, किस ओर हो तुम’ कार्यक्रम

गाथांतर। पुरवाई पत्रिका तथा जनवादी लेखक संघ के तत्वाधान में आयोजित दो दिवसीय साहित्यक कार्यक्रम ‘तय करो किस ओर हो तुम’ के प्रथम दिन सर्वप्रथम संकल्प संस्था बलिया द्वारा मो फैज़, गोरख पांडेय , के जनगीतों की सुर बद्ध प्रस्तुति की गयी।

प्रथम सत्र में जलेस के प्रदेश के महासचिव नलिन रंजन जी ने बीज वक्तव्य प्रस्तुत करते हुये समकालीन कथा साहित्य के महत्वपूर्ण बिंदुओं को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि महाकाव्य विधा को उपन्यास ने अपदस्थ किया, अब वही संकट उपन्यास के लिये भी आ गया है। यह कम पढे जाने का दौर है इस दौर में कहानी की किस्सागोई ही उसे बचा सकेगी। डा. सुनीता ने कहन की वापसी की बात कही। प्रतिष्ठित आलोचक राकेश बिहारी ने कहा कहानी का आलोचक पटवारी या जन गणना अधिकारी नहीं होता।

बिना किसी कहानी का नाम लिये कहानी के मुकदमे का फैसला नहीं सुनाना चाहिये। प्रलेस के संजय श्रीवास्तव कहा स्त्री का कहानी लिखना ही एक राजनैतिक परिघटना है ।डा सुनीता ने कहा वर्तमान कथा साहित्य में हाशिये की कहानी विस्तार मुख्य कहानी से अधिक है।

इस अवसर पर कविता-पोस्टर प्रदर्शनी लगाई गयी तथा मध्य प्रदेश से आयी सीमा शर्मा, बिहार से राकेश बिहारी,उत्तराखण्ड से विक्रम सिंह, गोरखपुर से रवीन्द्र प्रताप सिंह तथा आजमगढ़ से प्रज्ञा सिंह और सोनी पाण्डेय ने कहानी पढी।

इस अवसर पर प्रियंका, अनामिका सिंह पालीवाल, वन्दना शाह,अनीता सिंह श्रीवास्तव, पूर्णिमा जायसवाल, कुमार मंगलम,अजय पाण्डेय, वी पी तिवारी, संध्या नवोदित, वसुंधरा पाण्डेय, बैजनाथ यादव, जितेन्द्र पाण्डेय, राहुल, जमुना बीनी, सुनील दत्त, प्रतिभा, राजेश आस्थाना अन्नत आदि उपस्थित रहे।

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

हम तो उन्हीं को जितायेंगे…

हम तो उन्हीं को जितायेंगे… जो हमें कागज़ी विकास से उठाकर, वास्तविकता से रुबरु करायेंगे। …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.