Home » अपनी बात » ऐसे बचायें संयुक्त परिवार का बिखराव, मजा आयेगा

ऐसे बचायें संयुक्त परिवार का बिखराव, मजा आयेगा

संयुक्त परिवार का एक अलग पहचान है। लेकिन वर्तमान परिवेश में संयुक्त परिवार विघटन के कगार पर है। जब कि आज से ठीक बीस वर्ष पीछे ही एक बार मुड़ कर देखा जाय तो किसी भी सामान्य परिवार में वो व्यवस्था नही थी जो अब है। सोचने वाली बात है। पहले के अपेक्षाकृत कुछेक परिवार अभी संयुक्त परिवार के रूप में दिखते हैं। माता – पिता का कर्तव्य अच्छी तरह से निर्वहन करते हुए देखा जा रहा है। बड़े ही अरमान के साथ बच्चों को परवरिश दी जाती है। आज मैं सोचने पर मजबूर हूँ। घड़ी में (भोर) अलसुबह का 3 बज रहा है। समाज में हम अगर अच्छा करने की सोच रखते हैं तो निश्चित ही अच्छा होगा।

संयुक्त परिवार बिखराव पर है। अलगाववाद के नशा में परिवार टूटते चले जा रहे हैं। परिवार में कोई कम कमाता है, कोई ज्यादा कमाता है। कोई गर्म दिमाग का होता है तो कोई शांत दिमाग का होता है। कोई आलसी होता है, कोई मेहनती होता है। कोई सामाजिक होता है। कोई समाज से परे रहता है। ऐसे में एक साथ सबको लेकर चलना ही परिवार कहलाता है। मेरा हरेक परिवार से विनम्र निवेदन है। बच्चों को शिक्षा के साथ संस्कार भी देना बहुत आवश्यक है। लड़का हो या लड़की कोई अंतर नही। हम शिक्षा के साथ संस्कार देंगे, घर परिवार में बैठकर परिवार के बारे में बच्चों को बतायेंगे। हमें पूर्ण विश्वास है कि समाज हमारा बिखरते हुए संयुक्त परिवार को विघटन से बचायेगा।

नरेन्द्र मिश्र पत्रकार की फेसबुक वाल से

बलिया

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

गिले-शिकवे भूलकर खेलें प्रेम-स्नेह का रंग

होली का त्योहार आपसी भाईचारा का त्योहार है। यह त्योहार आपसी कटुता को भूलाकर प्रेम …

error: Content is protected !!
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.