Home » धर्म-कर्म » जो पिता की प्रतिष्ठा बढ़ाए वही श्रेष्ठ पुत्र : त्रिदंडी स्वामी

जो पिता की प्रतिष्ठा बढ़ाए वही श्रेष्ठ पुत्र : त्रिदंडी स्वामी

बलिया। गड़हांचल के बघौना में नए साल के पहले दिन यानी मंगलवार को श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन गंगापुत्र लक्ष्मीपुत्र त्रिदंडी स्वामी महाराज ने कहा कि पुत्र ऐसा होना चाहिये जो अपने माता पिता के जगह-जमीन, उनकी प्रतिष्ठा व धन का आठ गुना विस्तार करे। वही श्रेष्ठ पुत्र है।

बघौना में बने विशाल पंडाल में जुटे हजारों श्रद्धालुओं को अच्छे पुत्र का उदाहरण देते हुए कहा कि जैसे ध्रुव जी महाराज जो पांच साल की अवस्था में ही भगवान की प्राप्ति कर लिए। कहा कि जो माताएं नीतियों के अनुसार चलती हैं, उनके यहाँ ध्रुव का प्राकट्य होता है। जैसे सुनीति यानी जो वेद कहता है, पुराण कहते है, शास्त्र और संत कहते हैं, उनके अनुसार कोई चलता है तो उनके यहां ध्रुव जैसे पुत्र होते हैं।

वहां उत्तम पुत्र होते हैं। जिनके नाम से पिता को जाना जाता है। उत्तानपाद जी महाराज जिनकी दो पत्नी, सुरुचि एवं सुनीति हुईं। त्रिदंडी स्वामी ने आधुनिक युग के कुप्रभावों से बचने की सलाह दी। उन्होंने 3 जनवरी को कथा के समापन पर होने वाले भंडारे में अधिक से अधिक संख्या में भाग लेने की अपील की।

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

होलिका की राख के अनेकों लाभ, जान लें आप

बलिया। आपसी बैर मिटाकर गुझियों की मिठास लाने वाली होली पूरे देश में हर्षोल्लास से …

error: Content is protected !!
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.