Home » राष्ट्रीय खबरें » मॉरीशस के प्रधानमंत्री का पैतृक गांव तलाशने बलिया पहुंचे उच्चायुक्त ने कही बड़ी बात

मॉरीशस के प्रधानमंत्री का पैतृक गांव तलाशने बलिया पहुंचे उच्चायुक्त ने कही बड़ी बात

रसड़ा, बलिया। भारत के मॉरीशस गणराज्य के उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवरधन गुरुवार को जिले के रसड़ा कस्बा में स्थित डाक बंगला पर पहुंचे, जहां उनकी आगवानी जिलाधिकारी भवानी सिंह खंगारौत के नेतृत्व में प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने की। डाक बंगला में उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवरधन ने रसड़ा इलाके के विभिन्न गांवों से आये लोगों के साथ ही अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों तथा श्रीनाथ मठ के मठाधीश्वर कौशलेन्द्र गिरि के साथ काफी देर तक खाटी भोजपुरी में न सिर्फ बातचीत किया, बल्कि बलिया के रसड़ा (रसरा) में स्थित मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द जग्नाथ के पैतृक गांव को पता लगाने की गुजारिश भी की।

कहा कि मॉरीशस के प्रधानमंत्री अपने पैतृक गांव को न सिर्फ जानना चाहते है, बल्कि गंवई रिश्ता को मजबूत बनाना चाह रहे है। इसके लिए वे 24 जनवरी 2019 को रसड़ा आयेंगे। वे गांव घर व अपनों से रोजी-रोटी का रिश्ता चाहते है। वे चाहते है कि उनके गांव व इलाके का चातुर्दिक विकास हो। युवाओं को रोजगार से जोड़ा जाय। इस कार्य में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भरपूर साथ मिल रहा है। उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवरधन ने बताया कि प्राविन्द जुग्नाथ 23 जनवरी 2017 से मॉरीशस देश के प्रधानमंत्री पद को सुशोभित कर रहे है। इससे पूर्व इनके पिता अनिरूद्ध जुग्नाथ लगातार 18 वर्ष तक मॉरीशस के प्रधानमंत्री पद पर रहे। 29 मार्च 1930 को जन्में अनिरूद्ध जुग्नाथ मॉरीशस के जाने-माने राजनीतिज्ञ व विधिवेत्त्ता है। इन्होंने राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री के रूप में मॉरीशस की सेवा की। जगदीश्वर गोवरधन ने बताया कि प्राविन्द जुग्नाथ मंत्रिमंडल वित्तमंत्री का भी पद सम्भाले है। वह मिलिटेंट सोशलिस्ट मेवमेंट के प्रखर नेता है। 25 दिसम्बर 1961 को पवार में प्रतिष्ठित हिन्दू परिवार में जन्में प्राविन्द जुग्नाथ को बकंधिम विश्वविद्यालय ने डाक्टरेट की उपाधि दी है।

बलिया का महत्वपूर्ण कस्बा है रसड़ा

उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवरर्धन ने कहा कि रसड़ा तहसील मुख्यालय बलिया जनपद का महत्वपूर्ण कस्बा है। सम्पूर्ण जनपद प्राचीन कौशल राज्य का भाग है, जहां अतीत में कई कस्बों व नगरों का अभ्युदय हुआ। रसड़ा कस्बा प्राचीन काल से ही अपने अस्तित्व की रक्षा में सफल रहा, लेकिन विभिन्न कारणों से इसका समुचित विकास नहीं हो पाया।

1873 में प्रधानमंत्री के पूर्वज गये थे मॉरीशस

उच्चायुक्त जगदीश्वर गोवरधन ने बताया कि प्रधानमंत्री प्राविन्द जुग्नाथ के पूर्वज दम्पति (विदेशी व बतसिया) 1873 में जहाज से गन्ना बोने के लिए मॉरीशस गये थे और वही के हो गये। तब रसड़ा (रसरा) गाजीपुर जनपद में था और परगना लखनेश्वर था। उच्चायुक्त ने बताया कि प्रधानमंत्री प्राविन्द जुग्नाथ के पूर्वज ‘अहीर’ जाति से है। प्रधानमंत्री प्राविन्द जुग्नाथ अपने पैतृक गांव व कुल-खानदान के लोगों से मिलना चाहते है। इसके लिए वे भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी आग्रह किये है, जिसके तारतम्यता में भीरत सरकार इस दिशा में सार्थक पहल कर रही है। बताया कि प्रधानमंत्री प्राविन्द जुग्नाथ कुम्भ मेला के साथ ही 26 जनवरी को दिल्ली में आयोजित गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में भी शामिल होंगे। इससे पहले 24 जनवरी को वे रसड़ा आयेंगे और अपने गांव व क्षेत्र के लोगों से मिलकर बात करेंगे। उच्चायुक्त ने उपस्थित अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों तथा क्षेत्रीय ग्रामीणों से प्रधानमंत्री के पैतृक गांव का पता लगाने में मदद की अपील भी किया। इस मौके पर डीएम भवानी सिंह खंगारौत के अलावा एसडीएम ज्ञानप्रकाश यादव, तहसीलदार श्रीधर चौरसिया, श्रीनाथ मठ के मठाधीश्वर कौशलेन्द्र गिरि, पुलिस क्षेत्राधिकारी केपी सिंह, कार्यवाहक चेयरमैन वशिष्ठ नारायण सोनी, कोतवाल ज्ञानेश्वर मिश्र के साथ ही दर्जनों क्षेत्रीय लोग मौजूद रहे।
Share With :
Purvanchal24 welcomes you || For Advertisement on purvanchal24 Call on 9935081868
Purvanchal24 Welcomes You
Do Not Forgot to subscribe Purvanchal24 Youtube Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

Kumar Vishwas In Ballia : मोहब्बत एक एहसासों की पावन कहानी है…

बलिया। ‘मैं अपनी गीत गजलों से, उसे पैगाम करता हूं… उसी की दौलत उसी के …

error: Content is protected !!